20 हजार रुपए रिश्वत भी ले ली, अब नौबत टांग काटने की आई

Wednesday, February 14, 2018 11:19 AM
20 हजार रुपए रिश्वत भी ले ली, अब नौबत टांग काटने की आई

गुरदासपुर(दीपक, विनोद): सड़क हादसे में घायल हुए नौजवान के परिजनों ने सिविल अस्पताल के डा. अजयपाल सिंह उर्फ (प्रिंस) पर रिश्वत लेकर भी सही इलाज न करने का आरोप लगाते हुए डा. प्रिंस के खिलाफ प्रदर्शन किया। वहीं घटना संबंधी जानकारी मिलते ही थाना सदर की पुलिस सिविल अस्पताल में पहुंची तथा घायल हुए नौजवान के परिजनों को शांत करवाया। 

गौरतलब है कि 9 फरवरी को स्थानीय बटाला रोड पर पुली के पास एक प्राइवेट कंपनी की बस ने मोटरसाइकिल पर जा रहे 2 नौजवानों को टक्कर मार दी थी। इस घटना में एक की मौत हो गई थी जबकि दूसरा घायल हो गया था। घायल हुए नौजवान की हादसे में टांग बस के नीचे आने से कुचली गई थी। घायल नौजवान यशपाल पुत्र तरसेम लाल वासी गुरदासपुर भाइया (तारागढ़) का इलाज सिविल अस्पताल में डा. प्रिंसकर रहे थे, मगर आज सिविल अस्पताल में भारी संख्या में पहुंचे घायल के परिजनों ने अस्पताल में डा.प्रिंस के खिलाफ नारेबाजी करनी शुरू कर दी। 

परिजनों का कहना था कि डा. प्रिंस ने उनके बेटे का इलाज सही ढंग से नहीं किया जिसके कारण उसकी टांग को काटने की नौबत आ गई। जबकि उनसे डा. प्रिंस ने 20 हजार रुपए इलाज के लिए रिश्वत भी ली।  डा. प्रिंस ने 6 दिन गुरदासपुर अस्पताल में हमारे लड़के को बिना ऑप्रेशन के ही रखा और बाद में बोल दिया कि इसको अमृतसर गुरु नानक अस्पताल में ले जाओ जिसके बाद अपने लड़के को अमृतसर ले गए और वहां के डाक्टरों ने बताया कि इसका शुरूआती दौर में इलाज सही तरीके से नहीं हुआ है जिसके चलते इसकी टांग काटनी पड़ेगी और डाक्टरों ने दोबारा मरीज को गुरदासपुर ले जाने के लिए कहा, जिसके बाद मरीज को अमृतसर के एक अन्य अस्पताल में दाखिल करवाया, जहां डाक्टरों ने उनसे इलाज के लिए 4 लाख रुपए मांगे हैं तथा लड़के की टांग काटने के लिए बोल रहे हैं। 

परिजनों ने इंसाफ न मिलने पर सड़कों पर उतरने की दी चेतावनी
पीड़ित परिवार ने इंसाफ के लिए लिखित तौर पर सिविल सर्जन गुरदासपुर, डिप्टी कमिश्नर गुरदासपुर तथा एस.एस.पी. गुरदासपुर को गुहार लगाई है। घायल के परिजनों ने चेतावनी देते हुए कहा कि यदि उन्हें जल्द ही इंसाफ न मिला तो वे सड़कों पर उतर कर धरना प्रदर्शन करेंगे।

आश्वासन के बाद प्रदर्शनकारी हुए शांत
सिविल अस्पताल में घायल नौजवान के परिजनों द्वारा डाक्टर के खिलाफ नारेबाजी करने की सूचना मिलते ही थाना सदर की पुलिस मौके पर पहुंच गई तथा प्रदर्शनकारियों को शांत करवाते हुए आश्वासन दिया कि वह उनकों इंसाफ दिलाएंगे।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!