8 माह बाद निगम ने पुलिस प्रोटैक्शन में जोड़ा सीवरेज कनैक्शन

Thursday, January 11, 2018 2:21 PM
8 माह बाद निगम ने पुलिस प्रोटैक्शन में जोड़ा सीवरेज कनैक्शन

पठानकोट (शारदा): पिछले कई माह से शहर के मोहल्ला कर्म सिंह में राजनीतिक दबाव के चलते सीवरेज पाइप न डालने से परेशान महिला ने आखिर उस समय राहत की सांस ली जब निगम अधिकारियों ने पुलिस प्रोटैक्शन में उक्त महिला का मेन सीवरेज के पाइप से उसके शौचालय का कनैक्शन जोड़ दिया। 

उल्लेखनीय है कि स्थानीय मोहल्ले की निवासी विधवा महिला ने निगम से सीवरेज डालने हेतु निवेदन किया था जिसके बाद निगम ने निवेदनकर्ता से सीवरेज लगाने हेतु 1260 रुपए वसूले थे, लेकिन राजनीतिक व स्थानीय मोहल्ला निवासियों के दबाव में कनैक्शन जोडऩे में निगम कर्मचारी असफल रहे जिसके बाद महिला ने जिला उपायुक्त से कनैक्शन को लेकर शिकायत की थी। जिला उपायुक्त द्वारा मार्क इंक्वायरी के बाद आज सीवरेज इंचार्ज अश्विनी शर्मा व इंस्पैक्टर कमल चड्ढा के नेतृत्व में उक्त पाइप को मेन पाइप से जोड़ दिया गया। 

वहीं जब सुबह निगम कर्मियों की ओर से पाइप डालने की प्रक्रिया शुरू की गई तो पिछली बार की तरह गली निवासी एक  व्यक्ति की निगम कर्मचारियों से नोक-झोंक हो गई। उसका कहना था कि उनकी गली बेहद छोटी है तथा सीवरेज डलवाने वाली महिला का मुख्य दरवाजा सड़क के दूसरी तरफ है जिसके कारण निगम को उसकी सीवरेज व्यवस्था को सुचारू करने हेतु मेन सड़क में पाइप डलवानी चाहिए। मोहल्ला निवासियों के विरोध को देखते हुए निगम कर्मचारियों की प्रोटैक्शन के लिए आए पुलिस कर्मियों ने तुरंत हरकत करते हुए उक्त व्यक्ति की जैसे ही वीडियोग्राफी शुरू की तो उसके रवैये में ढीलापन आना शुरू हो गया और धीरे-धीरे मामला शांत हो गया। लगभग 4 घंटे निगम कर्मी व पुलिस कर्मी मौके पर डटे रहे और आखिर में सीवरेज व्यवस्था सुचारू हो गई।

क्या कहती है महिला 
पिछले 9 माह से सीवरेज प्रक्रिया में बाधा डालने वालों को आड़े हाथों लेते हुए विधवा महिला कुमुद ने बताया कि उनके पति न होने के कारण वह अपने मकान का ऊपर वाला हिस्सा किराए पर देना चाहते हैं ताकि उनकी रोजी-रोटी चल सके। उसके लिए उन्होंने एक शौचालय निर्मित किया, जिसके सीवरेज कनैक्शन हेतु 27 अप्रैल 2017 को उन्होंने निगम से उनकी बनती राशि जमा करवाकर कनैक्शन लगवाने का आग्रह किया था, लेकिन स्थानीय पार्षद द्वारा तथा उक्त मोहल्ले वालों के दबाव के कारण निगम कर्मी सीवरेज कनैक्शन देने में असमर्थता जता रहे थे। महिला ने बताया कि मोहल्ले वालों का रोकना बिल्कुल नाजायज था क्योंकि वह नियम के अनुसार ही कार्य कर रही थी। अगर वह सीवरेज मुख्य सड़क की ओर डलवाती तो उनके घर के सारे फर्श व बिल्डिंग को तोडऩा पड़ता, जो उनके लिए असंभव था। 

क्या कहना है पार्षद का?
महिला द्वारा लगाए गए आरोपों के बारे में जब वार्ड के पार्षद परवीन शर्मा पप्पी से बात की गई तो उन्होंने महिला द्वारा लगाए गए आरोपों को निराधार बताते हुए कहा कि उन्होंने कभी भी सीवरेज डालने के लिए दबाव नहीं बनाया है। उन्होंने कहा कि मोहल्ले के उक्त कुछ लोगों को गली छोटी होने के कारण सीवरेज डालने के लिए नाराजगी जता रहे थे, लेकिन उनकी ओर से कभी भी किसी बात का दबाव नहीं रहा।



आप को जीवनसंगी की तलाश है? तो आज ही भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें- निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!