आभूषण काटने वाले गिरोह की 2 महिलाएं काबू,एेसे देते थीं वारदातों को अंजाम

Monday, July 17, 2017 12:30 PM
आभूषण काटने वाले गिरोह की 2 महिलाएं काबू,एेसे देते थीं वारदातों को अंजाम

बटाला(बेरी): बटाला के अचली गेट के बाहर जालन्धर-अमृतसर बाईपास रोड पर स्थित धार्मिक स्थल सचखंड नानकधाम के सेवादारों ने कटर से आभूषण काटने वाले गिरोह की 2 महिला सदस्यों को पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया जबकि गिरोह के 3 सदस्य फरार हैं।  जानकारी के अनुसार सीमावर्ती जिला गुरदासपुर के शहर बटाला के अचली गेट के बाहरवार जालन्धर-अमृतसर बाईपास रोड पर स्थित धार्मिक स्थल सचखंड नानकधाम में उक्त 5 सदस्यीय महिला गिरोह संगत के रूप में पहुंचा।

यहां पर उक्त महिला गिरोह उस समय पूरी तरह से विफल हो गया जब यहां पर पानी पीने हेतु एकत्रित हुई महिला संगत की भीड़ में वारदात को अंजाम देने हेतु ज्यों ही गिरोह की एक महिला सदस्य ने रुमाल में लपेटा हुआ कटरनुमा हथियार निकाला त्यों ही सचखंड नानकधाम में बतौर सिक्योरिटी इंचार्ज व मुख्य सेवादार के रूप में ड्यूटी निभा रहे नौजवान विक्की ने महिला के हाथ में कटर देख उसको पकड़ लिया।

गिरोह की दूसरी महिला सदस्य ने जब अपनी साथी महिला का साथ देने की कोशिश की तो संदेह यकीन में बदल गया तथा इसके बाद दोनों महिलाओं को पकड़ लिया गया, गिरोह की बाकी 3 महिला सदस्य भागने में सफल हो गईं। पकड़ी गई महिला गिरोह की सदस्यों की पहचान सिमरन पत्नी बलबीर व डोगरी पत्नी लालू निवासीयान खासा परदा, थाना संदौड़ जिला मालेरकोटला के रूप में हुई है। ये दोनों महिलाएं आपस में ननद-भाभी हैं। इन दोनों के विरुद्ध थाना सिविल लाइन में केस दर्ज कर लिया गया है तथा इनसे आगे पूछताछ जारी है। 

एेसे वारदात को अंजाम देता था गिरोह

जिला मालेरकोटला से संबंधित 5 सदस्यीय यह महिला गिरोह काफी सक्रिय है और खतरनाक भी, क्योंकि यह गिरोह विभिन्न राज्यों के अलग-अलग शहरों में अपने पांव पसारते हुए लूट की वारदातों को अंजाम देने में पलक झपकते ही सफल हो जाता है। यह गिरोह विशेषकर स्वर्णाभूषण व कीमती सामान पहनती महिलाओं को अपना शिकार बनता है ताकि काफी अच्छी कमाई की जा सके। 

इन 5 सदस्यीय महिला गिरोह की ओर से पहले से ही प्लानिंग की गई होती है, जिसके अन्तर्गत इस गिरोह को जब कोई कीमती सोने की वस्तु व स्वर्णाभूषण पहने महिला दिखती है तो ये उसकी घेराबंदी कर लेती हैं ।  बाद वह इनमें  से एक महिला अपने शिकार को बड़ी चतुराई से बातों में उलझा लेती हैं । वहीं बाकी साथी महिलाएं कटरनुमा हथियार से गले, हाथ, अंगुली आदि में पहना कोई भी स्वर्णाभूषण काट देती हैं औरचुराकर फरार हो जाती हैं, जिसके बारे में संबंधित महिला को मौके पर तो पता नहीं चल पाता लेकिन बाद में उसे बहुत पछतावा होता है।


 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!