नाबालिगा ने फंदा लगाकर जान दी

Tuesday, November 14, 2017 1:47 PM
नाबालिगा ने फंदा लगाकर जान दी

लुधियाना (महेश): 16 वर्षीय एक नाबालिगा ने फंदा लगाकर जान दी। सरूचि का शव सोमवार को न्यू शिवपुरी स्थित उसके घर में लटकता हुआ पाया गया। आत्महत्या के कारणों का अभी तक पता नहीं चल पाया है। सलेम टाबरी पुलिस ने शव का पंचनामा करके उसे पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल भेज कर मामले की जांच शुरू कर दी है।

सरूचि 10वीं कक्षा की छात्रा थी। वह बिहार स्थित गांव में ही पढ़ रही थी। करीब 2 महीने पहले वह अपने माता-पिता से मिलने यहां आई हुई थी। उसका पिता मनोज कुमार व माता सुषमा देवी प्राइवेट नौकरी करते हैं। जोकि किराए के घर में रहते हैं। जहां अन्य किराएदार भी रहते हैं। घटना के वक्त वे काम पर गए थे। पीछे सरूचि घर पर अकेली थी। घटना का पता उस वक्त चला सरीता नाम की एक महिला उनके घर आई। काफी देर तक दरवाजा खटखटाने के बाद जब अंदर से कोई आवाज नहीं आई तो उसने मकान मालिक को इसकी जानकारी दी। जिसने रोशनदान से अंदर झांक कर देखा तो उसके रोंगटे खड़े हो गए। सरूचि का शव पंखे से लटक रहा था। जिसकी सूचना तत्काल पुलिस व सुषमा को दी गई।

इसके बाद कमरे का दरवाजा तोड़ा गया। जब पुलिस ने शव नीचे उतारने चाहा तो सुषमा ने पति का इंतजार करने को कहा। उसका पति गोबिंदगढ़ में काम करता है। जब मनोज से कोई संपर्क नहीं हो पाया तो सुषमा उससे बुलाने के लिए गोङ्क्षबदगढ़ चली गई और उसे अपने साथ लेकर आई। जिसके बाद शव को नीचे उतारा गया। सरूचि के परिवार वालों का कहना है कि सुबह सरूचि अच्छी भली थी। इसी सप्ताह उसे वापस गांव लौटना था। उन्हें इस बात की कोई जानकारी नहीं है कि सरूचि ने यह कदम क्यों उठाया। पुलिस का कहना है कि सत्यता का पता लगाया जा रहा है। मंगलवार को शव का पोस्टमार्टम कराया जाएगा। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!