नगर निगम चुनाव: 95 वार्डों के लिए 754 उम्मीदवार मैदान में

Wednesday, February 14, 2018 11:18 AM
नगर निगम चुनाव: 95 वार्डों के लिए 754 उम्मीदवार मैदान में

लुधियाना (हितेश): महानगर में 24 फरवरी को होने वाले नगर निगम के चुनावों के लिए नामांकन भरने की डैड लाइन मंगलवार को खत्म हो गई। इसके तहत 95 वार्डों के लिए 754 उम्मीदवार सामने आए हैं। इन उम्मीदवारों द्वारा दाखिल किए गए दस्तावेजों की स्क्रूटनी बुधवार को छुट्टी होने के कारण एक दिन बाद 15 फरवरी को हो पाएगी। इसके साथ ही नामांकन पत्र में कोई कमी पाए जाने की सूरत में उन्हें रद्द करने का फैसला सुना दिया जाएगा जबकि उससे अगले दिन 16 फरवरी को पेपर वापस लिए जा सकते हैं। उसी दिन उम्मीदवारों को चुनाव चिन्ह भी अलाट किए जाएंगे।

 

टिकट की घोषणा के बावजूद आप उम्मीदवारों ने आशु व ढिल्लों की पत्नियों के खिलाफ नहीं भरे पेपर

आम आदमी पार्टी द्वारा टिकटों की घोषणा करने के बावजूद उसके 2 उम्मीदवारों ने पेपर नहीं भरे। इसमें एक उम्मीदवार वार्ड नं. 67 की भावना गुप्ता है। जहां से कांग्रेस विधायक भारत भूषण आशु की पत्नी ममता आशु कांग्रेस की उम्मीदवार है और अकाली दल को मिलाकर सिर्फ 2 उम्मीदवार ही हैं। जो शहर के सभी वार्डों के उम्मीदवारों में सबसे कम आंकड़ा है। दूसरा उम्मीदवार वार्ड नं. 10 राकेश सपरा बताया जाता है। हलका ईस्ट के अधीन आते वार्ड नं. 3 से निशा मल्होत्रा ने भी पेपर नहीं भरे। जहां से पूर्व विधायक रंजीत ढिल्लों की पत्नी अकाली दल की मौजूदा पार्षद है। इसके अलावा वार्ड नं. 5 से आम आदमी पार्टी ने आजाद उम्मीदवार राकेश वर्मा को समर्थन देने का फैसला किया है।

 

वार्ड नं. 83 से आप व बैंस ग्रुप दोनों ने घोषित किए उम्मीदवार
आम आदमी पार्टी व बैंस ग्रुप ने वैसे तो आपस में टिकटों का बंटवारा कर लिया है। लेकिन वार्ड नं. 83 में रोचक स्थिति बन गई है। जहां से आप ने मनप्रीत कौर व बैंस ने रितु गुपता को उम्मीदवार घोषित कर दिया है। इस बारे में आप के जिला प्रधान भोला ग्रेवाल व बलविन्द्र बैंस दोनों ही कोई स्थिति स्पष्ट नहीं कर पाए।

 

अकाली दल के उम्मीदवार की पत्नी ने भाजपा उम्मीदवार के खिलाफ आजाद तौर पर भरे पेपर
अकाली दल द्वारा वार्ड नं. 72 से जिस हरप्रीत बेदी को उम्मीदवार बनाया है। उसकी पत्नी वीरां बेदी ने साथ लगते वार्ड नं. 73 से आजाद उम्मीदवार के तौर पर पेपर दाखिल कर दिए हैं। जहां से भाजपा का उम्मीदवार है। जिससे गठबंधन के नेताओं में हड़कंप मचा हुआ है। हालांकि इससे पहले भी बेदी द्वारा भाजपा के कोटे में गए वार्ड में आजाद उम्मीदवार के तौर पर आफिस खोलकर डोर टू डोर प्रचार किया जा रहा था। लेकिन उस समय अकाली दल ने उन्हें ऐसा करने से रोक दिया था।


कांग्रेस ने दिन में 2 बार बदली वार्ड नं. 31 की टिकट 
कांग्रेस द्वारा वैसे तो सारी टिकटों का ऐलान पहले ही कर दिया गया था। लेकिन चुनाव चिन्ह अलाट करते समय 2 सर्टीफिकेट रोक लिए गए थे। जिनमें से वार्ड नं. 31 से उमा बाला की टिकट काट दी गई है। उनकी जगह सुबह जिस उम्मीदवार को ओ.के. किया गया, शाम को उसे भी बदलकर तीसरे नाम पर मोहर लगाई गई। इस वार्ड से सबसे ज्यादा 22 लोगों ने नामांकन दाखिल किए हैं। वार्ड नं. 62 की जो टिकट गत दिवस रोकी गई थी, उसके तहत उम्मीदवार बदलने का फैसला दिल्ली तक जोर आजमाईश होने के कारण सिरे नहीं चढ़ पाया और शाम को पुराने उम्मीदवार अमरजीत ओबराय को ही टिकट दी गई।


वार्ड नं. 72 से अकाली दल के उम्मीदवार हरप्रीत बेदी द्वारा भाजपा के उम्मीदवार के खिलाफ अपनी पत्नी से वार्ड नं. 73 से आजाद उम्मीदवार के तौर पर नामांकन भरवाने की सूचना मिली है। जिससे विदड्राल फार्म ले लिया गया है। अगर बेदी ने नामांकन वापस न लिया तो उनको वार्ड नं. 72 से भी अकाली दल की तरफ से अलाट की गई टिकट रद्द कर दी जाएगी।                                              - रंजीत ढिल्लों, पूर्व विधायक 


वार्ड नं. 67 से आप उम्मीदवार को नगर निगम से एन.ओ.सी. न मिलने के कारण वो नामांकन नहीं भर पाई। जबकि वार्ड नं. 3 व 10 से उम्मीदवारों को कांग्रेस के लोगों ने दबाव बनाकर नामांकन दाखिल करने नहीं दिया। इसके अलावा वार्ड नं. 5 से आजाद उम्मीदवार को समर्थन दिया गया है।                                                                                - भोला ग्रेवाल, जिला प्रधान आप


नगर निगम चुनावों के लिए 600 से ज्यादा आवेदन आए थे, लेकिन टिकट 95 को ही मिलना है। जिसके लिए जीतने की क्षमता को आधार बनाया गया। उस बारे में पार्टी ने बकायदा सर्वे करवाया और उसी के आधार पर फैसला लिया गया। जहां तक टिकट मिलने से वंचित रह गए वर्करों का सवाल है, उनकी मेहनत भी कांग्रेस के लिए पूरी अहमियत रखती है और उनको पार्टी व सरकार में योग्य सम्मान दिया जाएगा।                                              - रवनीत बिट्टू, एम.पी. 

 

 

नगर निगम चुनावों को लेकर पुलिस ने जारी किया हैल्पलाइन नंबर
 नगर निगम चुनावों को लेकर कमिश्ररेट पुलिस की तरफ से नया हैल्पलाइन नंबर जारी किया गया है जिस पर 24 घंटे फोन कर समस्या बताई जा सकती है। उपरोक्त जानकारी पुलिस कमिश्रर आर.एन. ढोके ने दी। 
सी.पी. ढोके ने बताया कि पुलिस द्वारा जारी किया गया हैल्पलाइन नंबर 78370-18600 है। इस नंबर पर चुनावों में आने वाली किसी भी समस्या बारे कॉल या व्हाट्स एप कर बताया जा सकता है। उम्मीदवारों के अलावा आमजन भी इस नंबर पर फोन कर सकते हैं। 

 

सूचना देने वाले का नाम होगा गुप्त
सी.पी. के अनुसार चुनावों में अगर कोई उम्मीदवार इलाके में शराब बांटता है या फिर कोई भी ऐसा काम करता है, जिससे वोटर प्रभावित हो तो उस बारे में तुरंत इस नंबर पर सूचना दी जा सकती है, सूचना देने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा। इलाके में हो रहे गलत काम की फोटो भी व्हाट्स एप की जा सकती है।



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !