रजबाहे की बंदी के कारण प्रभावित हो रही धान की फसल

Monday, June 19, 2017 12:08 PM
रजबाहे की बंदी के कारण प्रभावित हो रही धान की फसल

संगत मंडी (मनजीत): नहरी विभाग द्वारा धान की बिजाई के मौके पर भटिंडा रजबाहे में बंदी करने से किसानों को बहुत मुश्किलें आ रहीं है। इस रजबाहे पर दर्जनों गांव निर्भर हैं जिनकी अधिकतर जमीन का रकबा धान की फसल वाला है। यह रजबाहा किसानों के धान लगाने की तिथि से पहले तो चलता था परन्तु जब सरकार द्वारा धान लगाने की घोषित तिथि आई तो नहरी विभाग ने बिना किसी कारण भटिंडा रजबाहे को बंद कर दिया। बेशक बिजली विभाग द्वारा 8 घंटे बिजली दी जा रही जो धान लगाने वाले किसानों के लिए सही है परन्तु रजबाहा बंद होने के कारण पानी की कमी किसानों की दिक्कतें बढ़ा रही है।  इस इलाके के जमीनी पानी की हालत अच्छी न होने के कारण धान को लगाने के लिए किसान नहरी पानी को ज्यादा महत्व देते हैं जिससे धान बिजते ही उगने लगता है। किसानों के रजबाहे की बंदी के कारण धान को जमीनी पानी लगाने पर मजबूर होना पड़ रहा है। अगर नहरी विभाग द्वारा रजबाहे में पानी न छोड़ा गया तो ऐसे बहुत से किसानों की धान की फसल नष्ट हो जाएगी।

क्या कहते हैं किसान 
किसान हरजीत सिंह और किसान कुलदीप सिंह का कहना है कि नहरी पानी धान के लिए देसी घी का काम करता है, जहां पर धरती के नीचे का पानी खराब है वहीं पर नहरी पानी से लगा हुआ धान ज्यादा झाड़ देता है। किसान गुरप्रीत सिंह ने बताया कि अगर नहरी पानी जल्दी न आया तो गर्मी के कारण धान सूखने आसार हो सकते हैं। किसान बलवीर सिंह का कहना है कि नहरी पानी के बंदी के कारण कई किसानों को धान लगाने के लिए जैनरेटर से महंगे भाव का डीजल फूंक कर मजदूरों के धान लगाना पड़ रहा है। 

ब्लॉक संगत के खेतीबाड़ी अधिकारी का कहना
जब इस संबंधी ब्लॉक संगत के खेतीबाड़ी अधिकारी सुशील कुमार से बातचीत की गई तो उनका कहना था कि नहरी विभाग द्वारा रजबाहे को इस समय पर बंद करना उनकी बहुत बड़ी गलती है। उन्होंने बताया कि नहरी विभाग के एक्सियन द्वारा खेतीबाड़ी विभाग को रजबाहे को पूछ कर बंद करना होता है पर ऐसा नहीं किया गया। उन्होंने आगे कहा कि नहरी पानी के बंद होने से किसानों को बहुत घाटा पड़ता है।

कैनाल भटिंडा के तार बाबू का कहना
जब इस मामले की कैनाल भटिंडा के तार बाबू हरकृष्ण सिंह से बातचीत की गई तो उनका कहना था कि भटिंडा रजबाहे की बंदी सफाई के कारण की गई है। मनरेगा मजदूर कम होने के कारण पानी छोडऩे में देर हो रही है। उनके पास पानी छोडऩे की प्रपोजल सोमवार सुबह 2 बजे तक है।
 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !