CM अमरेन्द्र सिंह से मिले राजदूत डेनियल कारमोन, तकनीक के आदान-प्रदान पर बनी सहमति

Friday, April 21, 2017 10:03 PM
CM अमरेन्द्र सिंह से मिले राजदूत डेनियल कारमोन, तकनीक के आदान-प्रदान पर बनी सहमति

जालंधर(धवन): इसराईल ने पंजाब के साथ सहयोग बढ़ाने की इ४छा जाहिर करते हुए कहा कि वह पंजाब में तकनीक के आदान-प्रदान, पुलिस तथा सुरक्षा परीक्षण, कृषि व सिंचाई, डेयरी फाॄमग तथा राज्य में निजी निवेश को प्रोत्साहित करने में दिलचस्पी रखता है। 

 

पंजाब के मुख्यमंत्री कै. अमरेन्द्र सिंह से आज  इसराईल  के भारत में राजदूत डेनियल कारमोन ने मुलाकात की, जिसमें  इसराईल  तथा पंजाब के द्विपक्षीय संबंधों को लेकर चर्चा हुई। दोनों पक्ष पंजाब-इसराईल वर्किंग ग्रुप गठित करने पर सहमत हुए ताकि एक-दूसरे के हितों से जुड़े मुद्दों पर लगातार बातचीत को जारी रखा जा सके। राजदूत के आग्रह पर मुख्यमंत्री ने कहा कि वह केंद्रीय विदेश मंत्रालय से बातचीत करेंगे ताकि पंजाब तथा  इसराईल  के मध्य दीर्घकालीन सहयोग के लिए ऐसे ग्रुपों का गठन किया जा सके।


बैठक में मुख्य प्रधान सचिव सुरेश कुमार, मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल, डी.जी.पी. सुरेश अरोड़ा, ए.डी.जी.पी. इंटैलीजैंस दिनकर गुप्ता विशेष मुख्य सचिव हिम्मत सिंह तथा राहुल भंडारी ने भी बैठक में भाग लिया। इसराईली राजदूत के साथ मिशन के डिप्टी चीफ दाना कुर्श, राजनीतिक मामलों की सलाहकार व फस्र्ट सैक्रेटरी मिस एडवा विलङ्क्षचस्की भी मौजूद थे। इसराईली राजदूत ने मुख्यमंत्री से कहा कि उनका देश पंजाब के साथ संबंधों में विस्तार चाहता है। 


पंजाब में  इसराईल के प्राइवेट सैक्टर की दिलचस्पी है। उन्होंने तकनीकी सहयोग में रुचि दिखाते हुए कहा कि  इसराईल  सूचना तकनीक तथा कम्युनिकेशन हब की स्थापना पंजाब में करना चाहता है जिस पर कै. अमरेन्द्र सिंह ने भी अपनी सहमति दिखाई। मुख्यमंत्री ने कहा कि जब वह पहले राज्य के मुख्यमंत्री थे तो उन्होंने सिंचाई तथा किसानों को उच्च उत्पादकता दिलवाने वाली किस्मों को पंजाब में लागू किया था। राज्य में फलोत्पादन को बढ़ावा दिया गया था। इसराईली राजदूत ने कहा कि उनके देश की कई कम्पनियां उच्च उत्पादकता को कृषि क्षेत्र में बढ़ावा देने की इच्छुक हैं। कै. अमरेन्द्र सिंह ने सुझाव दिया कि  इसराईल  को पंजाब में कृषि उपकरण मैन्युफैक्चरिंग सुविधा स्थापित करनी चाहिए तथा साथ ही कृषि उत्पादों के लिए प्रभावी कोल्ड स्टोरेज भी स्थापित करने चाहिए। राजदूत कारमोन ने कहा कि  इसराईल  की गाऊएं विश्व में सबसे ज्यादा दूध देने वाले 3 प्रमुख देशों में से एक हैं। 

 

उन्होंने कहा कि  इसराईल  पंजाब में डेयरी फाॄमग को बढ़ावा दे सकता है। दोनों पक्षों ने पुलिस व सुरक्षा कर्मचारियों को प्रशिक्षण देने के मामले में भी आपसी सहयोग बढ़ाने पर रुचि दिखाई। इसके लिए पंजाब में स्पैशल आप्रेशनल ग्रुप गठित करने की संभावना तलाशी गई। यहां यह उल्लेखनीय है कि  इसराईल  का केंद्रीय गृह मंत्रालय के साथ पहले ही समझौता है जोकि सुरक्षा तथा आतंकवाद विरोधी गतिविधियों से जुड़ा हुआ है। इसराईल  तथा पंजाब ने द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा देने के लिए विशेषज्ञों की वार्ता को जारी रखने का निर्णय लिया। 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!