सुषमा स्वराज ने स्वीकारी CM कैप्टन की यह मांग, जल्द ही बनेगा पासपोर्ट कार्यालय

Friday, April 21, 2017 5:02 PM
सुषमा स्वराज ने स्वीकारी CM कैप्टन की यह मांग, जल्द ही बनेगा पासपोर्ट कार्यालय

जालन्धर(धवन): केंद्रीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह की नवांशहर में नया पासपोर्ट कार्यालय खोलने की मांग को स्वीकार कर लिया है। दोआबा से भारी संख्या में लोग विदेशों में जाकर बसे हुए हैं तथा नवांशहर से अनेकों एन.आर.आई. परिवार संबंध रखते हैं। दरअसल, हाल ही में सुषमा की किडनी ट्रांसप्लांट हुई थी, जिस कारण कैप्टन उनका हालचाल पूछने के लिए गए थे। 

पासपोर्ट कार्यालय खुलने से लोगों को मिलेगी राहत 
बैठक के दौरान सुषमा स्वराज ने कैप्टन द्वारा उठाए गए मुद्दे पर सकारात्मक रुख अपनाते हुए अपनी तरफ से हरसंभव मदद देने का भरोसा दिया। कैप्टन ने विदेशों में सिख समुदाय के लोगों पर नस्लीय हमले का मुद्दा भी उठाया। उन्होंने कहा कि विदेशों में पंजाबियों की सुरक्षा को यकीनी बनाया जाना चाहिए। सुषमा ने कहा कि केंद्र ने पटियाला में पासपोर्ट कार्यालय खोलने पर अपनी सहमति दी हुई है। अब नवांशहर में अलग से पासपोर्ट कार्यालय खोला जाएगा। सरकारी प्रवक्ता ने बताया कि मुख्यमंत्री ने सरकार द्वारा बनाई गई सिख नौजवानों की काली सूची में से बेगुनाह नौजवानों के नाम हटाने में हो रही देरी का मुद्दा भी उठाया जिस कारण यह नौजवान भारत आ नहीं पा रहे हैं। सुषमा ने कहा कि वह इस मुद्दे को केंद्रीय गृह मंत्री के सामने उठाएंगी ताकि जल्द से जल्द सूची पर गौर किया जा सके। कैप्टन ने कहा कि नवांशहर में पासपोर्ट कार्यालय खुलने से समूचे क्षेत्र के लोगों को राहत मिलेगी तथा लोगों की लम्बे समय से चली आ रही मांग भी पूरी हो जाएगी।

पंजाबियों की सुरक्षा को यकीनी बनाने में जुटी केंद्र सरकार
विदेश मंत्री ने मुख्यमंत्री को भरोसा दिया कि नस्लीय हमले के पीड़ितों को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मदद दिलवाने की पूरी कोशिशें की जा रही हैं। केंद्र सरकार ने नस्लीय हमले का मामला संबंधित देशों के सामने भी उठाया है। सुषमा स्वराज ने कहा कि वह निजी तौर पर पंजाबियों की सुरक्षा को यकीनी बनाने में लगी हुई हैं तथा संबंधित देशों के साथ कई बार उनकी बातचीत भी हो चुकी है। मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर पंजाब-इजराइल वर्किंग ग्रुप बनाने का मुद्दा भी उठाया ताकि दोनों को इसका लाभ मिल सके। सुषमा स्वराज ने इस पर भी अपनी सहमति दिखाई। कैप्टन ने कहा कि उन्होंने इजराइली राजदूत के साथ भी बातचीत करके द्विपक्षीय संबंधों को मजबूत बनाने पर चर्चा की है। सुषमा ने कहा कि पंजाब को जो भी मदद की जरूरत होगी वह केंद्र द्वारा उपलब्ध करवाई जाएगी।


 



यहाँ आप निःशुल्क रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं, भारत मॅट्रिमोनी के लिए!