शिअद नेता का आरोप,सिंचाई घोटाले में निष्पक्ष  जांच नहीं कर रही  विजिलैंस

Tuesday, February 13, 2018 3:05 PM
शिअद नेता का आरोप,सिंचाई घोटाले में निष्पक्ष  जांच नहीं कर रही  विजिलैंस

बठिंडाः शिअद नेता गुरसेवक सिंह जवाहरके ने सतर्कता ब्यूरो पर 950 करोड़ रुपए के सिंचाई घोटाले की जांच में धीमा होने और निर्धारित समय के भीतर इसमें शामिल अधिकारियों के खिलाफ चालान करने में असफल होने का आरोप लगाया। 

 

संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए, जवाहरके ने कहा कि यह 9.50 करोड़ रुपए की एक परियोजना है जिसके तहत सरकार ने सिंचाई के क्षेत्र में पानी के पाठ्यक्रम के आउटलेट्स का निर्माण करके एक उचित सिंचाई प्रणाली स्थापित की है।  परियोजना मुख्य रूप से बठिंडा, संगरूर, बरनाला और मानसा जिले के लिए थी, जहां भूजल दूषित है। किसानों ने भी, परियोजना लागत का 10 प्रतिशत योगदान दिया। इन चार जिलों के किसानों से करीब 100 करोड़ रुपए एकत्र किए गए हैं। "अकाली नेता ने आरोप लगाया कि अधिकारियों के साथ मिलकर ठेकेदारों ने परियोजना में घटिया निर्माण सामग्री का इस्तेमाल किया।

 

उन्होंने आरोप लगाया कि विजिलैंस ने ठेकेदारों में से एक से रिश्वत लेने के समय कार्यकारी अभियंता केके सिंगला को भी पकड़ लिया था। उन्होंने आरोप लगाया कि विजिलेंस ने  छापे मार एक करोड़ रुपए से ज्यादा नकद बरामद किया और विभिन्न बैंक खातों और एफडी को उजागर किया। इसी तरह, एक अन्य विभाग के अधिकारी एस.के गोयल के यहां छापे मारे गए और उनके पास से 70 लाख रुपए वसूल किए गए। बावजूद इसके सतर्कता ने निर्धारित समय अवधि में उनके खिलाफ कोई चालान नहीं किया।  उन्होंने दावा किया कि विजिलैंस  ब्यूरो ने उन्हें लूप में ले जाने के बिना जांच पूरी की। इसके अलावा, सिंगला को भी पदोन्नत किया गया क्योंकि विजिलैंस  उसके खिलाफ कोई कार्रवाई शुरू करने में विफल रही है।


जवाहर के ने 2016 में पार्टी शासन के समय इसका खुलासा किया था। उन्होंने अब मामले को फिर से खोलने के लिए विजिलैंस ब्यूरो के साथ याचिका दायर की है।


 
 

 



विवाह प्रस्ताव की तलाश कर रहे हैं ? भारत मैट्रीमोनी में निःशुल्क रजिस्टर करें !