नौजवानों के जोश ने बदला सतलुज का बहाव: संत सीचेवाल

9/3/2019 5:30:54 PM

सुल्तानपुर लोधी(धीर): जाणियां चाहल की सबसे बड़ी दरार को बंद करने में जुटे हुए संत बलबीर सिंह सीचेवाल ने बताया कि यह नौजवानों का जोश ही था, जिसने सतलुज दरिया के बहाव को बदल दिया है।

उन्होंने कहा कि बड़ी संख्या में जहां पंजाब भर से नौजवान सतलुज के धुस्सी बांध को बांधने की सेवा निभा रहे हैं, वहीं विदेश से आए नौजवान भी अपने कंधों पर रेत के बोरे दिन-रात उठा रहे हैं। संत सीचेवाल ने कहा कि पंजाब की जवानी ने आज साबित कर दिया है कि उनको सही शिक्षा देने की जरूरत है, वह किसी भी असंभव काम को संभव बनाने की समर्था रखते हैं। उन्होंने बताया कि जाणियां चाहल वाली दरार के दूसरी ओर की सेवा एक दिन पहले ही आरंभ की थी और नौजवानों के जोश व जज्बे से किए कार्य के तहत ही इस दरार को बंद करने के कार्य में तेजी आई है। संत सीचेवाल ने कहा कि हम सभी को पंजाब की जवानी पर गर्व करना चाहिए और इनकी सोच को सार्थक मार्ग पर लगाने की जरूरत है।

इंगलैंड से आए पुनियां गांव के नरिन्द्र सिंह ने कहा कि वह 13 वर्ष बाद वापस पंजाब आया था और आते ही बाढ़ के साथ जूझना पड़ गया। वह गत एक सप्ताह से लगातार संत सीचेवाल वालों की अध्यक्षता में काम कर रहे हैं, जिन्होंने नौजवानों में किरत के संकल्प को उभारा है। कनाडा से आए सुक्खी बाठ ने भी इस बाढ़ प्रभावित क्षेत्र का दौरा कर पंजाब के लोगों को अपील की थी कि वह सरकारी मदद का इंतजार किए बिना जिस ढंग से काम कर रहे हैं, उस ढंग से यह बांध जल्द ही मुकम्मल हो जाएगा। 


Vatika

Related News