निजी प्रयोगशालाओं को कोरोना टैस्ट की अनुमति, ICMR ने मुफ्त में जांच करने का किया आग्रह

punjabkesari.in Wednesday, Mar 18, 2020 - 12:42 PM (IST)

जालंधर। केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय ने कोरोनोवायरस (COVID-19) के लिए उच्च गुणवत्ता वाली निजी प्रयोगशालाओं को टैस्ट की अनुमति देने का निर्णय लिया। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने मीडिया के पूछे गए एक प्रश्न का जवाब देते हुए यह जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कई निजी प्रयोगशालाओं कोरोनावायरस के प्रकोप को देखते हुए ने देश की सेवा करने की इच्छा जाहिर की थी। जिसके बाद इन प्रयोगशालाओं को बोर्ड पर लिया गया है। महानिदेशक ने यह भी जानकारी दी कि सरकारी प्रयोगशालाओं को उतने ही रक्त के सैंपल दिए जा रहे हैं, जितने करने में वे सक्षम हैं। भार्गव ने कहा कि इन प्रयोगशालाओं से टैस्ट मुफ्त में करने की भी अपील की गई , हालांकि यह अनिवार्य नहीं है।

PunjabKesari  

उन्होंने कहा कि सरकार निजी प्रयोगशालाओं में किए गए इन परीक्षणों की लागत वहन नहीं करेगी। वर्तमान में, मंत्रालय के दिशा-निर्देशों के अनुसार पहली स्क्रीनिंग की लागत 1,500 रुपये और पुष्टिकरण स्क्रीनिंग, 3,000 रुपये है। सरकारी लैब मरीजों की बिना किसी कीमत पर टेस्टिंग कर रही हैं। ICMR ने फिर से दोहराया है कि केवल जिन्होंने अंतर्राष्ट्रीय यात्रा की है या वे कोरोना के किसी एक पुष्ट मामले के संपर्क हैं और जिनमें COVID-19 लक्षण प्रदर्शित हैं, उनका ही परीक्षण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि 16 मार्च तक, 11,500 नमूनों का परीक्षण किया जा चुका है। प्रयोगशालाओं को सप्ताह के अंत तक 72 से  121 तक बढ़ाया जाएगा। किसी भी दिन, इन प्रयोगशालाओं द्वारा प्रति दिन 8,000 नमूनों का परीक्षण किया जा सकता है लेकिन चूंकि परीक्षण मानदंड सीमित हैं, इसलिए इन प्रयोगशालाओं का पूर्ण उपयोग नहीं किया जाएगा।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Suraj Thakur

Related News

Recommended News