अमृतसर: कोरोना के बाद इस बीमारी ने दी जोरदार दस्तक, जारी हुआ अलर्ट

punjabkesari.in Saturday, Aug 21, 2021 - 04:55 PM (IST)

अमृतसर (दलजीत शर्मा): कोरोना महामारी के बाद अब स्वाइन फ्लू ने अमृतसर में जोरदार दस्तक दी है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा पॉजिटिव आए मामलों को देखते हुए सतर्कता बरती जा रही है। विभाग द्वारा अधिकारियों को अलर्ट रहने के निर्देश दिए गए हैं।

जानकारी अनुसार लुधियाना के बाद अब अमृतसर में स्वाइन फ्लू ने दस्तक दे दी हैं। अमृतसर के एक निजी अस्पताल में पांच संदिग्ध मरीजों के सैंपल सरकारी मेडिकल कालेज स्थित इंफ्लूएंजा लैब भेजे गए थे। कोरोना की शंका के चलते पहले इनका कोविड टेस्ट किया। कोविड नैगेटिव रिपोर्ट आने पर स्वाइन फ्लू की संभावना के चलते टेस्ट किया गया। इनमें से एक मरीज एच1एन1 यानी स्वाइन फ्लू पाजिटिव पाया गया। वहीं तीन मरीज इंफ्लूएंजा—बी पीड़ित पाए गए। इंफ्लूएंजा की अलग—अलग किस्में हैं। जिस प्रकार कोरोना वायरस के अलग अलग वेरिएंट हैं उसी तरह इंफ्लूएंजा की भी ए, बी व सी किस्में हैं। इनमें इंफ्लूएंजा—ए का एक वेरिएंट एच1एन1 है। इंफ्लूएंजा—बी से पीड़ित मरीज साधारण वायरल का की चपेट में हैं, इसलिए इन्हें किसी प्रकार का खतरा नहीं।

कोरोना काल में पहली बार स्वाइन फ्लू
मार्च 2020 में जिले में कोरोना संक्रमित पहला मरीज रिपोर्ट हुआ था। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग इस महामारी से लड़ने में जुट गया। देखते ही देखते कोरोना संक्रमितों की संख्या बढ़ती गई। ऐसे में विभाग का ध्यान अन्य बीमारियों से हट गया। स्वाइन फ्लू जैसी घातक बीमारी की जांच भी बंद कर दी गई। अब कोरोना वायरस के कुछ कमजोर पड़ने के बाद स्वाइन फ्लू, डेंगू, मलेरिया जैसी बीमारियों की जांच शुरू की गई है। इसी कड़ी में स्वाइन फ्लू के दो मरीज मिले।

मरीजों के संपर्क में आने वालों की तलाश
स्वाइन फ्लू संक्रमित दो मरीज मिलने के बाद स्वास्थ्य विभाग सकते में आ गए हैं। कोरोना महामारी से निर्णायक जंग लड़ रहे स्वास्थ्य विभाग के लिए स्वाइन फ्लू चुनौती बनकर उभर सकता है। बहरहाल, इन दो मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों की स्वास्थ्य विभाग तलाश में जुटा है।

आईडीएसपी अधिकारी की कार्यप्रणाली सवालों में
स्वाइन फ्लू की दस्तक के बावजूद आईडीएसपी की अधिकारी कार्यालय आने से परहेज कर रही हैं। आईडीएसपी की एपिडिमोलाजिस्ट डा. नवदीप कौर शनिवार को कार्यालय नहीं आईं। सिविल सर्जन कार्यालय में शनिवार को सरकारी अवकाश होता है, लेकिन कोरोना महामारी के चलते सभी प्रोग्राम आफिसर यहां तक कि सिविल सर्जन डा. चरणजीत सिंह भी कार्यालय में इस महामारी से लड़ने की रूपरेखा तय करते रहे। डा. नवदीप कौर को कई बार फोन किया, पर उन्होंने बात करना मुनासिब नहीं समझा। यहां बताना जरूरी है कि मार्च 2020 में जब कोरोना महामारी का प्रारंभिक काल था और स्वास्थ्य विभाग इससे निबटने की योजनाएं बना रहा था तब डा. नवदीप कौर ने पद से इस्तीफा दे दिया था। जब उनके विषय में चर्चाएं छिड़ीं तो कुछ माह बाद वे पुन: विभाग से गुजारिश कर ड्यूटी पर ज्वाइन कर गईं।

पंजाब और अपने शहर की अन्य खबरें पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Tania pathak

Related News

Recommended News