पंजाब ने रचा इतिहास, एन.एफ.एच.एस के आंकडों के अनुसार किया यह दर्जा हासिल

punjabkesari.in Tuesday, Nov 30, 2021 - 01:09 PM (IST)

चंडीगढ़ (शर्मा): तम्बाकू के सेवन की समस्या को खत्म करने के लिए इतिहास रचते हुए पंजाब ने राष्ट्रीय परिवार सेहत सर्वेक्षण (एन.एफ.एच.एस.-5) के ताजा आंकड़ों के अनुसार तम्बाकू का सबसे कम प्रयोग करने वाले स्थान का दर्जा हासिल कर एक नया मील पत्थर स्थापित किया है। यह बात उपमुख्यमंत्री ओ.पी. सोनी ने कही जिनके पास पंजाब के सेहत और परिवार कल्याण मंत्री का प्रभार भी है। भारत जैसे देश में तम्बाकू के साथ सबंधित बीमारियां और मृत्यु की दर बहुत अधिक है।

 

यह भी पढ़ेंः  मनीष सिसोदिया ने पंजाब के व्यापारियों की समस्याओं के साथ विभिन्न मुद्दों पर की चर्चा

भारत में हर साल 10 लाख से अधिक बालिग तम्बाकू का प्रयोग करने के कारण मरते हैं, जो कि कुल मृत्यु दर का 9.5 प्रतिशत बनता है। सोनी ने कहा कि पंजाब सेहत विभाग द्वारा तम्बाकू की लत को जड़ से खत्म करने के लिए किए जा रहे कार्य सार्थक सिद्ध हो रहे हैं। सेहत और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी किए गए राष्ट्रीय परिवार सेहत सर्वेक्षण (एन.एफ.एच.एस. -5) के ताजा आंकड़ों के अनुसार पंजाब में तम्बाकू का प्रयोग अब देश के सभी राज्यों की अपेक्षा सब से कम है।

 

यह भी पढ़ेंः  पंजाब पुलिस में भर्ती संबंधी नौजवानों ने मैन हाईवे जाम कर किया जोरदार प्रदर्शन

पंजाब में 15 साल या इससे अधिक उम्र के पुरुषों में तम्बाकू का प्रयोग पिछले पांच वर्षों में 19.2 प्रतिशत (एन.एफ.एच.एस. -4) से कम कर 12.9 प्रतिशत रह गई है। इसके साथ ही पंजाब में 15 वर्ष से अधिक उम्र की औरतें सिर्फ 0.6 फीसदी ही तम्बाकू का प्रयोग करती हैं, जिसके साथ पंजाब देश के सभी राज्यों और केंद्र शाशित प्रदेशों में से शिखर पर है। उपमुख्यमंत्री ओ.पी. सोनी ने राज्य तम्बाकू कंट्रोल सैल, पंजाब को इस ऐतिहासिक प्राप्ति के लिए बधाई देते हुए कहा कि पिछले 10 महीनों में कोटपा -2003 के अंतर्गत कुल 5541 चालान किए गए हैं।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kalash

Related News

Recommended News