पंजाब सरकार की सख्ती के बावजूद गेहूं के भूसे जलाने के मामलों में रिकार्डतोड़ वृद्धि

punjabkesari.in Sunday, May 08, 2022 - 03:44 PM (IST)

चंडीगढ़ : पंजाब सरकार की भारी चेतावनी के बावजूद किसानों द्वारा गेहूं के भूसे को जलाने का सिलसिला लगातार जारी है। राज्य में पराली जलाने के गत दिवस 827 मामले दर्ज किए गए। इस सीजन के दौरान दर्ज किए गए मामलों का आंकड़ा करीब 11343 के पार पहुंच गया है। इस साल गेहूं के भूसे जलाने की घटनाओं ने लगभग पिछले 6 सालों के सभी रिकार्ड तोड़ दिए हैं। 

प्रशासन द्वारा सख्ती किए जाने के बावजूद भी किसान नहीं मान रहे हैं। जब उन्हें मौका मिलता है वह फसलों के अवशेषों को खेतों जला डालते हैं। इसके बाद खेतों में पानी लगाकर ऊपर से हल चला देते हैं। खेतों में फसलों के अवशेषों को आग लगाने से जहां प्रदूषण को बढ़ावा मिल रहा है, वहीं खेतों में धुएं के कारण गावों में कई दुर्घटनाएं भी हो चुकी हैं।

जिक्रयोग्य है कि अकेले लुधियाना में ही शनिवार को सबसे अधिक 110 मामले दर्ज किए गए, इसके बाद जालंधर में 94 और अमृतसर में 93 मामले दर्ज किए गए। पंजाब के फिरोजपुर में 1280 मामले दर्ज किए गए हैं, इसके बाद अमृतसर में 1063, गुरदासपुर में 1013, तरनतारन में 969 और मोगा में 968 मामले दर्ज किए गए हैं। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Subhash Kapoor

Related News

Recommended News