अगर आप भी ऐप से करते है मोबाइल रिचार्ज तो ध्यान से पढ़े ये खबर, हो सकता है नुक्सान

1/5/2021 4:50:09 PM

लुधियाना: टिब्‍बा के विशाल विहार कालोनी के रहने वाले एक युवक को मोबाइल एप के माध्‍यम से मोबाइल रिचार्ज करवाना इस कदर मंहगा पड़ गया कि साइबर ठग ने पैमेंट रिवर्स करने का झांसा देकर उसके बैंक खाते से 1.89 लाख की नकदी उड़ा ली।
दरअसल हुआ यूं कि मेहनत-मजदूरी करने वाले 33 वर्षीय राहुल ने 14 नवम्‍बर 2020 को फोन पे एप के माध्‍यम से 219 रुपए का अपना मोबाइल रिचार्ज करवाया था। उसके खाते यह राशि 2 बार कट गई। उसने गूगल से ऑनलाइन फोन एप का कस्‍टमर केयर नंबर निकाला और उस पर बात की तथा उसके बैंक खाते से 2 बार रकम कट जाने की बात बताई।

आरोपी ने उसे फोन पे एप ओपन करने के बाद टू कांटैक्‍ट आप्‍शन में जाकर मोबाइल के लास्‍ट 5 डिजिट दर्ज करने को कहा। जैसे ही उसने अपने मोबाइल नंबर के आखरी 5 नंबर दर्ज किए, उसके खाते से 96,233 रुपए कट गए। इस पर शिकायतकर्ता के होश उड़ गए लेकिन ठग इतना शातिर था कि उसने राहुल को बातों में उलझाए रखा और फिर उसके खाते से 2999 रुपए की नकदी उड़ा ली।

इस पर राहुल ने नाराजगी जाहिर की तो आरोपी ने उसे विश्‍वास दिलवाया कि उनका सिस्‍टम अपडेट हो रहा है, उसके खाते से कोई भी पैसा नहीं निकला है। इसके बाद आरोपी ने बड़ी ही चालाकी से राहुल से उसके नैट बैकिंग की आई.डी और पासवर्ड हासिल कर लिया ओ.टी.पी. लेकर उसके खाते से 2 बार 50,000 रुपए की नकदी ट्रांसफर कर ली लेकिन कुछ देर बाद 95,000 रुपए की नकदी उसके खाते में वापस आ गई।

उसी दिन शाम को उसे मैसेज आया कि उसके खाते से 20,000 रुपए की नकदी यूनो ए.टी.एम. के माध्‍यम से निकाली गई है। उसने एस.बी.आई. के कस्‍टमर केयर पर फोन करके कार्ड ब्‍लॉक करवा दिया। 15 नवम्‍बर की सुबह उसे आरोपी का दोबारा फोन आया तो उसने पुलिस के पास शिकायत दर्ज करवाने की धमकी दी तो आरोपी ने शाम को उसके खाते से 20,000 रुपए और निकलवा लिए। इसका जब मैसेज उसके पास आया तो उसने बैंक के कस्‍टमर केयर पर दोबारा बात की तो उसे हैरान कर देने वाली जानकारी दी गई कि उसके नाम पर 2 ए.टी.एम. कार्ड जारी हैं।

अगले दिन राहुल को आरोपी ने दूसरे नंबर से कॉल करके कहा कि वह ज्‍यादा चालाक बन रहा था, इसलिए उसने खाते से पैसे निकलवाए हैं और वह चाहकर भी उसका कुछ नहीं बिगाड़ सकता है। इसके बाद राहुल ने इसकी शिकायत पुलिस कमिश्‍नर से की। जांच का जिम्‍मा साइबर सैल को दिया गया।

साइबर ठगी के तार वैस्‍ट बंगाल, तमिलनाडु व मध्‍य प्रदेश से जुड़े
जांच के दौरान साइबर ठगी के तार मध्‍य प्रदेश, वैस्‍ट बंगाल व तमिलनाडु से जुड़े पाए गए। जांच में पाया गया कि फरियादी के खाते से यू.पी.आई. के माध्‍यम से पे.टी.एम. में पैसे ट्रांसफर हुए जोकि मध्‍य प्रदेश के खारगौन के अंतर सिंह का है। जब उसका खाता निकलवाया गया तो पता चला कि अंतर सिह ने यह राशि एच.डी.एफ.सी. बैंक के अलग-अलग 3 खातों में ट्रांसफर की है। जिसमें एक खाता तमिलनाडु की अनबरसाऊ नाचीमुथु का है, दूसरा खाता एजहेलारसी वेदीझागन का है, जबकि तीसरा खाता एस. वर्धाराजन का है। इसके अलावा राहुल से जिन 2 नंबरों से बात की गई, उनमें एक वैस्‍ट बंगाल के अकाश सोनकर के नाम पर और दूसरा अलीजान एस.के. के नाम पर रजिस्‍टर्ड है। जांच के दौरान यह भी पाया गया कि आरोपियों ने आपराधिक षड्यंत्र के तहत राहुल से ठगी की है।

अंजान से कोई भी निजी जानकारी सांझा न करेंं: चौधरी
हलका पूर्वी के ए.सी.पी. दविंद्र चौधरी ने अपील की कि जो लोग नैट बैंकिंग की सुविधा का इस्‍तेमाल करते हैं, वे किसी भी अनजान व्‍यक्ति से नैट बैंकिंग की आई.डी., पासवर्ड, ओ.टी.पी. व निजी जानकारी कतई भी सांझा न करें और न ही साइबर ठगों के झांसे में आएं। उन्‍होंने कहा कि आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए उनके इलाके की संबंधित पुलिस से सम्पर्क साधा जा रहा है, जैसे ही कोई ठोस जानकारी मिलती है। टीम को रवाना किया जाएगा।

पीड़ित ने भाई की शादी के लिए जुटाया था धन
राहुल ने बताया कि उसके भाई की शादी थी जिसके लिए उसने यह धन जुटाया था, जो ठगों ने उससे लूट लिया। वह मेहनत मजदूरी करता है, लेकिन ठगों ने उसका सबकुछ लूट लिया। उसने व उसके परिवार में ठगी के बाद बहुत परेशानी वाला वक्‍त गुजारा लेकिन अब उसे उम्‍मीद की किरण नजर आ रही है।


Tania pathak

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static