हथियारों के शौकीन पंजाबी, लाइसेंसी हथियारों के मामले में देश में मिला यह स्थान

punjabkesari.in Sunday, Jun 12, 2022 - 10:52 AM (IST)

मंडी लक्खेवाली/श्री मुक्तसर साहिब(सुखपाल ढिल्लों/पवन तनेजा): पंजाबी लोग हथियारों के लिए इतने शौकीन हैं कि इस मामले में उन्होंने सबको पीछे छोड़ दिया है। पिछले कुछ सालों से पंजाब में जितने हथियार लाइसेंस बने हैं, उतने जम्मू-कश्मीर को छोड़ कर देश के किसी और राज्य में नहीं बने। उत्तर प्रदेश में देश में सबसे ज्यादा 12.88 लाख हथियार लाइसेंस हैं और इतने बड़े राज्य में 2017 से अब तक सिर्फ 15 हजार नए लाइसेंस बने हैं, जबकि पंजाब में इन वर्षों दौरान 30 हजार से अधिक लाइसेंस बने हैं। दो सालों के दौरान हरियाणा में सिर्फ 10,238 और राजस्थान में सिर्फ 6390 हथियार लाइसेंस बने हैं। पहला नंबर उत्तर प्रदेश का, जबकि जम्मू-कश्मीर 4.84 लाख हथियार लाइसेंसों के साथ दूसरे नंबर पर है। जम्मू-कश्मीर ऐसा राज्य है, जहां पिछले चार वर्षों दौरान देश में सबसे ज्यादा 1.75 लाख हथियार लाइसेंस बने हैं। 

पंजाब में कितना है असला
इस समय पर जरूरत है पंजाब को हथियारों की मंडी बनने से रोकने की क्योंकि हथियारों के मामले में इसका देश में तीसरा नंबर है। देश में 40 लाख के करीब हथियार लाइसेंस हैं, जबकि पंजाब में अब इनकी संख्या 4 लाख से अधिक हो गई है। राज्य में 2017 दौरान 3,59,349 लोगों के पास लाइसेंसी हथियार था। पिछले एक दशक दौरान लगभग एक लाख नए हथियार लाइसेंस बने हैं। चाहे सरकारें बदलीं लेकिन लाइसेंस बनने कम नहीं हुए।

यह हैं आंकड़े
देश में पहले नंबर पर आने वाले उत्तर प्रदेश में 12.88 लाख हथियार लाइसेंस हैं जबकि दूसरे नंबर पर जम्मू-कश्मीर में 4.84 लाख लाइसेंस हैं। इसके अलावा दिल्ली में हथियार लाइसेंसों की संख्या 40,620 और चंडीगढ़ में यही संख्या 80,858 है। केरल में सिर्फ 10,600, जबकि गुजरात में 63,138 हथियार लाइसेंस हैं। पंजाब में इस समय करीब 55 लाख परिवार हैं और इस हिसाब से पंजाब के औसतन हर 14वें परिवार के पास हथियार लाइसेंस हैं। पंजाब में औसतन 80 लोगों के पीछे एक हथियार लाइसेंस है। हथियार लाइसेंस बनाने के लिए लोग राजनीतिक पार्टियों के नुमाइंदों की सिफारिशें भी डलवाते हैं।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sunita sarangal

Related News

Recommended News