राज्य GST विभाग द्वारा महानगर इंडस्ट्रियल एरिया के स्क्रैप डीलर पर की गई सर्च

punjabkesari.in Thursday, May 12, 2022 - 11:09 PM (IST)

लुधियाना(सेठी) - राज्य जी.एस.टी विभाग के डिस्ट्रिक्ट - 4 की टीम द्वारा महानगर के एक स्क्रैप डीलर पर सर्च की गई। बता दिया जाए, कि यह कार्रवाई टैक्सेशन कमिश्नर पंजाब कमल किशोर यादव के दिशा निर्देशों पर लुधियाना के इंडस्ट्रियल एरिया में एक फर्म साई इंटरप्राइजेज पर की गई। इस दौरान मौके पर टीम की अगुवाई असिस्टेंट कमिश्नर लुधियाना - 4 सुमनदीप कौर ने की, जबकि उनके साथ स्टेट टैक्स ऑफिसर राहुल बंसल , जसपाल सिंह , अमित गर्ग व शमशेर सिंह व कई स्टेट टैक्स इंस्पेक्टर शामिल रहे। उल्लेखनीय है, कि उक्त डीलर आयरन ट्रेडिंग के साथ - साथ स्टील स्क्रैप का कारोबार करता है। 

जिक्रयोग बात है, कि यह कार्रवाई गुप्त आधार से मिली जानकारी व उक्त द्वारा दाखिल रिटर्नों को देखते हुए की गई। निरीक्षण के दौरान भारी मात्रा में स्टॉक मिस - मैच पाया गया और इस दौरान विभाग के हाथ कई लूज़ पर्चियों सहित डायरियां की मिली। जिसे गहनता से जांच करने के लिए विभागीय अधिकारियों ने जब्त कर लिया। विभागीय अधिकारियों ने जानकारी देते हुए बताया कि उक्त फर्म कथित तौर पर फर्जी खरीद में शामिल हैँ और इसके साथ जांच प्रक्रियाधीन है। उन्होंने यह भी बताया कि फर्म के खिलाफ कानून के अनुसार सख्त से सख़्त कार्रवाई की जाएगी।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार उक्त पर राज्य जी एस टी विभाग पिछले लंबे समय से पैनी नजर बनाए हुआ था, जिसमें विभाग को संदेह हुआ कि उक्त सही ढंग से अपना बनता टैक्स नहीं जमा करवा रहा। जिसके तहत सर्च ऑपरेशन किया गया और अब फर्म का तफ़सील से स्टॉक वेरीफाई किया जाएगा। विभाग द्वारा उक्त फर्म के मालिक को सम्मन भेजा जाएगा और जस्टिफिकेशन न देने पर बनता टैक्स व जुर्माना वसूला जाएगा और जी एस टी कानून एक्ट 2017 के तहत कार्रवाई की जाएगी।          

भगवंत मान उन अधिकारियों पर करें कार्रवाई , जो सरकार के राजस्व को चूना लगाने के लिए जिम्मेदार 
पंजाब प्रदेश व्यापार मंडल के महासचिव सुनील मेहरा ने उक्त सर्च और प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कर चोरी बिना विभागीय अधिकारियों की मिलीभगत के संभव नहीं। इसलिए उन्होंने पंजाब के मुख्यमंत्री  भगवंत सिंह मान से मांग, कि विभाग व व्यापारियों की उन कालीभेड़ों पर कार्रवाई की जाए , जो कर चोरी कर सरकार के राजस्व को भारी चुना लगाने के लिए जिम्मेदार है। इसके साथ उन्होंने यह भी कहा कि हालही " इज ऑफ़ डूइंग बिज़नेस " के चलते सरकार ने जी एस टी नंबर पर किसी भी प्रकार की वेरिफिकेशन के बिना नंबर जारी करने को आदेश दिए है , परंतु फिर भी राज्य जी एस टी विशेष रूप से वेरिफिकेशन करता है , किन्तु कई ऐसे डीलर निकलते है। जो कर चोरी करते हुए पाए जाते है , जिससे स्प्ष्ट है, कि अधिकारी भी इस गोरखधंदे में सम्मिलित है।       


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Pardeep

Related News

Recommended News