1600 करोड़ रुपए की जाली बिलिंग के मामला में स्पिनिंग मिल के डायरैक्टर गिरफ्तार

11/28/2020 10:52:11 AM

लुधियाना(धीमान): डायरैक्टोरेट जनरल आफ जी.एस.टी.इंटैलीजैंस (डी.जी.जी.आई.) के लुधियाना यूनिट ने मानसा की एक बड़ी स्पिनिंग मिल के डायरैक्टर को करीब 1600 करोड़ रुपए की जाली बिलिंग कर 80 करोड़ रुपए के जी.एस.टी. चोरी करने के मामले में गिरफ्तार किया है। इंटैलीजैंस के अधिकारियों ने डायरैक्टर को अदालत में पेश किया और उसे वहां से 14 दिन के ज्यूडिशियल रिमांड पर भेज दिया। 

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक डी.जी.जी.आई. को सूचना मिली थी कि उक्त स्पिनिंग मिल मालिक काफी मोटे स्तर पर जी.एस.टी. की चोरी कर रहे हैं। इसी के आधार पर इंटैलीजैंस विभाग ने अपनी कार्रवाई शुरू कर दी। छानबीन के दौरान हैरान करने वाले तथ्य सामने आए। जिसमें पता चला कि कंपनी मालिकों ने अपनी ही कंपनी के कर्मचारियों के नाम पर नकली फर्में बनाकर उनके साथ 1600 करोड़ रुपए से ज्यादा की टर्न-ओवर (सेल-परचेज) कर ली। जिससे स्पिनिंग मिल की टर्नओवर तेजी से बढ़ गई और उसके आधार पर उक्त स्पिनिंग मिल मालिकों ने बैंकों से करोड़ों रुपए की सी.सी. लिमिट बढ़ा ली। दूसरी और 80 करोड़ रुपए से ज्यादा का बनता जी.एस.टी. भी जमा नहीं करवाया। माल सिर्फ कागजों में ही खरीदा व बेचा गया। 

इस घोटाले में कई अन्य लोगों के शामिल होने की भी शंका जाहिर की जा रही है। जिन पर आगे की कार्रवाई करने के लिए डी.जी.जी.आई. ने कमर कस ली है। मिल की सारी ट्रांजैक्शन के दस्तावेज अपने कब्जे में ले लिए हैं। इंटैलीजैंस यह भी पता लगाने में जुटी है कि बैंकों ने इन्हें किस तरह बिना जांच के करोड़ों रुपए की सी.सी. लिमिट लोन के रूप में बढ़ा दी। इस खबर की पुष्टि इंटैलीजैंस की लुधियाना यूनिट के हैड अरविंद माधवन ने की है। लेकिन विस्तार से जानकारी देने के संबंध में उन्होंने कहा कि जांच पूरी होने के बाद ही सारे खुलासे होंगे।


Sunita sarangal

Recommended News