10वीं की परीक्षा रद्द होने से असमंजस में स्टूडैंट्स, स्ट्रीम चुनने को लेकर हो रही है परेशानी

4/23/2021 11:04:50 AM

लुधियाना(विक्की) : सैंट्रल बोर्ड ऑफ़ सैकेंडरी एजुकेशन (सी.बी.एस.ई.), आई.सी.एस.ई. बोर्ड व कई राज्य बोर्ड ने अपने यहां होने वाली 10वीं की परीक्षाएं रद्द कर दी हैं। साथ ही स्कूलों को 11वीं में एडमिशन की प्रक्रिया शुरू करने का निर्देश भी दे दिया। ऐसे में 11वीं में स्ट्रीम को लेकर स्टूडैंट्स की टेंशन बढ़ने लगी है। क्योकि स्टूडैंट्स को अभी तक 10वीं के असैसमैंट को लेकर कोई स्थिति क्लीयर नहीं दिख रही है। ऐसे में स्टूडैंट्स असैसमैंट के तरीके को लेकर असमंजस में हैं और उसके जरिए मिलने वाले मार्स्क को लेकर सशंकित है। क्योकि इन्हीं मार्क का असर 11वीं में दाखिले के समय स्ट्रीम के सलैक्शन पर भी पड़ना है। ऐसे में 10वीं बोर्ड परीक्षा के छात्र 11वीं में एडमिशन और अपनी पसंद का विषय सलैक्ट करने को लेकर परेशान हैं।

10वीं में कैसे चुनें सही स्ट्रीम
सैंट्रल बोर्ड ऑफ़ सैकेंडरी एजुकेशन (सी.बी.एस.ई.) बोर्ड ने कक्षा 10वीं की परीक्षाएं रद्द कर दी हैं। सी.बी.एस.ई. की देखादेखी आई.सी.एस.ई. व कई राज्य बोर्ड ने भी 10वीं की परीक्षाएं रद्द कर दी हैं। ऐसे में इन छात्रों को इंटरनल असैसमैंट और प्रोजैक्ट वर्क के आधार पर 11वीं में प्रमोट करने की तैयारी चल रही है।

10वीं के सभी छात्र होंगे पास
सी.बी.एस.ई. बोर्ड ने 10वीं के सभी छात्रों को ऑब्जैक्टिव क्राइटेरिया प्रोसेस के तहत पास करने का निर्णय लिया है। इसमें छात्रों को उनकी सालभर की परफॉर्मेंस, प्रोजैक्ट वर्क और इंटरनल असैसमैंट के आधार पर पास किए जाने की योजना बन रही है। जहां छात्र पहले सिर्फ रिजल्ट को लेकर ही परेशान थे, वहीं अब 11वीं में एडमिशन की तैयारी शुरू होने पर अपने सब्जेक्ट्स को लेकर भी स्ट्रैस में हैं।

सब्जैक्ट सलैक्शन को लेकर संशय
सी.बी.एस.ई., आई.सी.एस.ई. सहित ज्यादातर बोर्ड्स में 10वीं के रिजल्ट के आधार पर छात्रों को 11वीं में विषय चुनने की छूट दी जाती है। आमतौर पर उनके रिजल्ट के बेसिस पर ही तय होता है कि वे कला विषय लेंगे, विज्ञान या फिर कॉमर्स। अब अगली कक्षा में प्रमोट होने वाले छात्रों को इस बात की चिंता सता रही है कि उन्हें उनकी पसंद का सब्जैक्ट मिलेगा या नहीं। छात्रों और अभिभावकों में सब्जेक्ट सलैक्शन को लेकर संशय बरकरार है।

 

11वीं में कैसे चुनें सही स्ट्रीम?
कई करियर काऊंसलर की राय मानें तो देशभर के ज्यादातर स्कूलों में ऑनलाइन या ऑफलाइन मोड में प्री-बोर्ड एग्जाम हो चुके हैं। ऐसे में स्टूडैंट्स प्री-बोर्ड में मिले मार्क्स के आधार पर अपनी स्ट्रीम का चुनाव कर सकते हैं। इसके अलावा स्टूडैंट्स अपनी रुचि के आधार पर भी 11वीं में सब्जैक्ट चुन सकते हैं। इसलिए मार्क्स के साथ ही बच्चों की पसंद का भी सब्जैक्ट सलैक्शन में अहम रोल हो सकता है। साथ ही सब्जैक्ट चुनते समय अपने लक्ष्य के बारे में भी ध्यान रखें। किसी की देखादेखी कर सब्जैक्ट न चुनें।

 


Content Writer

Vatika

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static