दुर्घटना को लेकर जालंधर में ये 45 स्थान “ब्लैक स्पॉट” घोषित, पढें और रहें सावधान

1/13/2021 7:40:03 PM

जालंधरः सड़क सुरक्षा में सुधार लाकर सड़क हादसों को कम करने के लिए डिप्टी कमिश्नर घनश्याम थोरी ने आज कहा कि जिला प्रशासन ने एक विशाल सड़क सुरक्षा अभ्यास में 45 दुर्घटना होने वाली जगहों (ब्लैक स्पॉट्स) की पहचान की है, जिनको लोगों की कीमती जानों को बचाने के लिए जल्द से जल्द हटाया जाए। 

जिला प्रशासनिक परिसर में आज अलग-अलग विभागों से मीटिंग की प्रधानगी करते डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि कमिश्नरेट क्षेत्र में फेयर फार्म रिजोर्ट वेरका मिल्क प्वाइंट अंडर ब्रिज, वाई-प्वाइंट भगत सिंह कालोनी, टी-प्वाइंट हिल व्यू कालिया कालोनी, पुलिस स्टेशन-8 अधीन बुटा सिंह बिल्डिंग मटीरियल स्टोर, पठानकोट चौक, लंबा पिंड चौक, टी-प्वाइंट सुच्ची पिंड, सामने जेसी रिजोर्ट, पीएपी चौक, रामा मंडी चौक, बड़िंग गेट दकोहा रेलवे क्रासिंग, मोदी रिजोर्ट, धन्नोवाली रोड, गढ़ा रोड सामने जवाहर नगर बस स्टेंड रोड, चुनमुन चौक, अवतार नगर, ज्योति चौक, शीतल नगर मक्सूदां, टैगोर अस्पताल, टी-प्वाइंट जिंदा रोड और रेड़ू की ब्लैक स्पॉट्स के तौर पर पहचान की गई है। 

उन्होंने बताया कि इसी तरह देहाती पुलिस अधिकार क्षेत्र में पेप्सी फेक्टरी फिल्लौर, गोराया फिलिंग स्टेशन, बस स्टाप गोराया, सामने मनसूरपुर गेट, लिधड़ां फ्लाईओवर के सामने, बीधीपुर, वेरका चौक, किशनगढ़ चौक, आदमपुर चौक और चट्टी रोड मोड़ को ब्लैक स्पॉट के तौर पर दिखाया गया है। डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि इसके अलावा नेशनल हाईवे सड़कों पर 14 ब्लैक स्पॉट्स की पहचान की गई है। उन्होंने कहा कि केंद्रीय सड़की आवाजाई और राजमार्ग मंत्रालय अनुसार एक सड़क को तब ब्लैक स्पॉट करार दिया जाता है जब उस सड़क के किसी भी 500 मीटर के हिस्से पर लगातार तीन सालों में पांच से अधिक हादसे हुए हों, जिनमें मौत और जानलेवा चोटें लगें।

उन्होंने अधिकारियों को हिदायतें दी कि वह जल्द ही इन जगहों पर सुधार को यकीनी बनाएं। उन्होंने कहा कि उनके द्वारा इस मामले को उचित स्तर पर भी उठाया जाएगा। उन्होंने बताया कि उनके द्वारा सड़क सुरक्षा कमेटी को पहले ही एक लाख रुपए की मंजूरी दे दी गई है और अगर जरुरत पड़ी तो वह इन जरुरी सुधारात्मक उपायों के लिए और फंड भी जारी करेंगे।
 


Mohit

Recommended News