गिरफ्तार आरोपियों से 18 में से 16 हथियार बरामद, इस जेल से जुडे़ हैं तार

punjabkesari.in Friday, Dec 08, 2023 - 02:45 PM (IST)

बठिंडा : सी.आई.ए. वन टीम व काउंटर इंटेलिजेंस विंग द्वारा सांझे आप्रेशन के तहत आई.एस.आई. से संबंधित 3 आरोपियों को गिरफ्तार किया था। अब पुलिस ने उनकी निशानदेही पर नाभा जेल में बंद कर्मजीत शौरन उर्फ जीता निवासी हिसार को प्रोडक्शन वारंट पर लाकर पूछताछ में 32 के 6 पिस्तौल बरामद किए गए। यह हथियार बठिंडा में छिपाकर रखे गए थे ताकि किसी बड़ी घटना को अंजाम दिया जा सके।
एस.पी. अजय गांधी ने बताया कि सी.आई.ए. स्टाफ बठिंडा पुलिस ने 21 नवंबर को थाना कैंट में दर्ज मामले में आरोपी को जेल से प्रोडक्शन वारंट पर लेकर आई थी और उसे बठिंडा अदालत में पेश कर 2 दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया था। पूछताछ के आधार पर पुलिस टीम ने उक्त 6 और हथियार बरामद किए हैं।

एस.पी. गांधी ने बताया कि उक्त सभी हथियार मध्यप्रदेश से लाए गए थे। उन्होंने बताया कि उक्त लोग एम.पी. से कुल 18 पिस्तौल सस्ते दामों में खरीदकर लाए गए थे ताकि उन्हें वे पंजाब में महंगे दामों में बेचे जा सकें। एस.पी. ने बताया कि 18 के 16 हथियार बरामद किए जा चुके हैं जिनमें 8 हथियार काउंटर इंटेलिजेंस टीम ने आरोपी राजभूपिंदर सिंह उर्फ भिंदा निवासी गांव डिक्ख, रमन कुमार उर्फ रमनी निवासी गांव गुरुहरसहाय और जगजीत सिंह उर्फ टैणा निवासी गांव ढिलवां जिला फरीदकोट को गिरफ्तार करने के दौरान बरामद किए थे।

जबकि पकड़े गए उक्त तीनों आरोपियों की पूछताछ के आधार पर इंटेलिजेंस की टीम ने दिल्ली से एक ओर युवक जसमीत सिंह को 2 हथियारों समेत गिरफ्तार किया है। बीती 21 नवंबर को काउंटर इंटेलिजेंस की टीम को गुप्त सूचना मिली थी कि आरोपी राजभूपिंदर सिंह, रमन कुमार और जगजीत सिंह एक चोरी की आल्टो कार में सवार होकर गोबिंदपुरा होते हुए बठिंडा की तरफ आ रहे हैं। जिसके चलते काउंटर इंटेलिजेंस की पुलिस टीम ने गांव गोबिंदरपुरा नहर की पटरी के पास नाकाबंदी की, तो दूसरी तरफ से आ रही सफेद रंग की आल्टो कार को रोककर चैकिंग की गई तो कार सवार उक्त तीनों आरोपियों से 8 पिस्तौल तीन 30 बोर पिस्तौल और पांच 32 बोर पिस्तौल साथ ही 9 मैगजीन और 30 जिंदा कारतूस बरामद किए थे।

पुलिस ने तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर पूछताछ की तो आरोपियों ने खुलासा किया कि संगरूर जेल में बंद गैंगस्टर कुलविंदर सिंह उर्फ किंदा खानपुरिया, हरचरण सिंह दिल्ली और सुलतान सिंह अमृतसर के संपर्क में थे। राज्य में टारगेट किलिंग को अंजाम देकर समाज में दहशत पैदा करने के लिए मध्य प्रदेश से हथियार लाए थे।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Editor

Neetu Bala

Recommended News

Related News