होशियारपुर: श्मशान घाट में 15 कोरोना योद्घाओं को मिला प्रिंसीपल बग्गा सेवा अवार्ड

6/2/2020 2:18:25 PM

होशियारपुर(अमरेन्द्र मिश्रा): कोरोना संक्रमण के इस दौर में जब अपने भी खुद अपनों के लिए ही इस कदर पराए हुए कि जीवन की अंतिम संसारिक यात्रा में कंधा देना तो दूर कोई खुद अपने ही परिजनों के अंतिम संस्कार तक के लिए आगे नहीं आ रहा था। ऐसे में समाज में कुछ ऐसे भी लोग थे जो उन बेकंधे मृतकों का कंधा बने और उनकी अंतिम संसारिक यात्रा को श्मशान घाट तक पहुंचा अंतिम संस्कार को संभव बनाया। ऐसे ही मानवता और जिम्मेवारी की भावना से ओतप्रोत साहसी कोरोना योद्घाओं के सम्मान के लिए शहर के प्रमुख सामाजिक कार्यकत्र्ता डॉ. अजय बग्गा ने अपने स्वर्गीय पिता प्रिंसिपल ओम प्रकाश बग्गा की 36वीं पुण्यतिथि पर अनूठे ढंग से शमशान घाट में संक्षिप्त व प्रभावशाली सम्मान समारोह का आयोजन कर समाज के सामने साहसिक अनूठा मिसाल कायम कर लोगों का दिल जीत लिया।

PunjabKesari

शिवपुरी श्मशान घाट में 15 कोरोना योद्धाओं को मिला अवार्ड
कोविड-19 वैश्विक महामारी दौरान देश के कुछ क्षेत्रों में कोरोना संक्रमित मृतक शरीर के संस्कार में जहां पर परिवारिक सदस्यों द्वारा सहयोग नहीं दिया गया, वहीं सरकारी कर्मियों ने मृतक देह के संस्कार में अग्रणी भूमिका निभाकर मानवीयता का परिचय दिया। आज समाजवादी विचारक प्रिंसीपल ओम प्रकाश बग्गा पूर्व विधायक की 36वीं पुण्यतिथि के अवसर पर स्वास्थ्य विभाग एवं स्थानीय शिवपुरी में कार्यरत 15 अधिकारियों व कर्मियों को कोरोना प्रभावित मृतक देहों के संस्कार में सहयोग देने हेतु प्रिंसीपल बग्गा सेवा अवार्ड से सम्मानित किया गया। प्रत्येक अवार्ड प्राप्तकत्र्ता को स्मृति चिन्ह, कोरोना से बचाव हेतु किट एवं 2000 रूपए सम्मान स्वरूप दिए गए।

इन्हें मिला प्रिंसिपल बग्गा सेवा अवॉर्ड 
स्वास्थ्य विभाग में माहिलपुर के एस.एम.ओ. डा. सुनील अहीर, पोसी ब्लॉक के डा. हरकेश, फुम्मन, मुकेश, दविंदर पाल एवं होशियारपुर के हरजीत सिंह धामी, आकाश एवं विशु को सेवा अवार्ड से सम्मानित किया गया। शिवपुरी के महंत मास्टर विजय कुमार, पंडित दर्शन लाल काका, सुखविंदर सिंह, विजय कुमार, सुखदेव कुमार, दविंदर अटवाल एवं हरबंस लाल को भी यह अवार्ड प्रदान किया गया।

PunjabKesari

सही मायने में इन्होंने दिया है मानवता का परिचय: डॉ.बग्गा
इस अवसर पर डा. अजय बग्गा ने कहा कि कोरोना महामारी के दौरान मृतक शरीर के संस्कार में सहयोग देकर इन कर्मियों ने वास्तविक मानवता का परिचय दिया है, इसके लिए क्षेत्रवासी इनके तहे दिल से इनके शुक्रगुजार है। डा. बग्गा ने कहा कि कोरोना महामारी में परिवारिक सदस्यों द्वारा अपने प्रियजन की मृत्यु पर संस्कार के समय सहयोग न देना दर्शाता है कि मनुष्य के रक्त का रंग सफेद होना शुरु हो गया है।

बहु प्रतिभा के धनी थे स्व. ओम प्रकाश बग्गा
आज से 36 वर्ष पूर्व प्रमुख समाजवादी पूर्व विधायक प्रिंसिपल ओम प्रकाश बग्गा ने 53 वर्ष की उम्र में राष्ट्रीय एकता, सांप्रदायिक सद्भाव व धर्म निरपेक्षता हेतु संघर्ष करते हुए 2 जून 1984 को अपने जीवन का महान बलिदान दिया था। समाजवादी विचारों से ओतप्रोत प्रिंसिपल बग्गा जीवन भर नफरत, भेदभाव एवं फिरकाप्रस्ती के विरुद्ध संघर्षरत रहे। आर्य समाज के प्रचार व प्रसार में पंजाब में सक्रिय भूमिका अदा करने वाले प्रिं. बग्गा 15 वर्ष से भी अधिक समय तक होशियारपुर के डी.ए.वी. सीनियर सैकेंडरी स्कूल के प्रिंसिपल रहे। स्व. बग्गा पंजाब यूनिवर्सिटी के सिंडिकेट एवं सीनेट तथा डी.ए.वी. कालेज प्रबंधख कमेटी, आर्य समाज व बहुत सी अन्य संस्थाओं के सदस्य भी रहे।


Vaneet

Related News