बारिश से खेतों में बिछी गेहूं की फसल, किसानों की मुश्किलें बढ़ी

punjabkesari.in Wednesday, Mar 22, 2023 - 11:05 AM (IST)

मोगा : मालवा इलाके में लगातार 2 दिन रुक-रुककर पड़ी बारिश तथा तेज हवाओं ने किसानों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। खेतों में गिरी गेहूं देख किसानों की आंखों से आंसू बह रहे हैं। चाहे खेती माहिरों ने महज 5 से 7 प्रतिशत गेहूं गिरने की मोगा जिले में पुष्टि की है परन्तु जमीनी हकीकत सरकारी दावों से बिल्कुल भी मेल खाती नजर नहीं आ रही है। खेतों का असलियत आंकड़ा किसानों का असल दर्द बयान कर रहा है। मोगा में 1.80 लाख हैक्टेयर रकबे में किसानों द्वारा गेहूं की बिजाई की गई है जिसमें से 15 से 20 प्रतिशत तक खेतों में खड़ी गेहूं की फसल पूरी तरह से गिर गई है। इस तरह की स्थिति के कारण किसानों को पक रही अपनी फसल के हुए नुक्सान के कारण बड़ा आर्थिक नुक्सान ने का अभी से ही खतरा खड़ा हो गया है।

किसानी धंधे से जुड़े पूर्व सरपंच जगदीप सिंह ददाहूर बताते हैं कि जब मार्च के दूसरे सप्ताह के बाद बारिश पड़ती है तो यह निश्चित होता है कि ज्यादातर फसलों का नुक्सान होता है परन्तु इस बार पिछले वर्षों के मुकाबले बारिश भी ज्यादा पड़ी है और तेज हवाओं ने किसानों की फसलें धरती पर बिछा दी है।

आगामी दिनों में और बारिश की संभावना

सरपंच ने कहा कि मौसम विभाग द्वारा आगामी दिनों में अभी और बारिश पडऩे की संभावना जताई जा रही है। यदि बारिश और पड़ती है तो किसानों का नुक्सान और भी हो सकता है। एक अर किसान अमृतपाल सिंह का बताना था कि इस बार प्राथमिक पड़ाव से लेकर पकने लगी गेहूं तक किसी भी बीमारी का ज्यादा हमला न होने के कारण किसानों को उम्मीद इस बार गेहूं का झाड़ बम्पर होगा परन्तु बारिश ने किसानों की सारे सपने मिट्टी कर दिए हैं। एक अन्य किसान सुरजीत सिंह का कहना था कि सरकार को तुरंत किसानों की फसलों के नुक्सान की भरपाई करवानी चाहिए।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kalash

Related News