दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी को बड़ा झटका, नगर कीर्तन पर रोक

10/10/2019 12:56:16 PM

नई दिल्ली/अमृतसर (सुनील पाण्डेय, ममता): दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की ओर से 13 अक्तूबर को प्रस्तावित दिल्ली से ननकाना साहिब (पाकिस्तान) नगर कीर्तन अब नहीं जाएगा। श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार ज्ञानी हरप्रीत सिंह ने काफी जद्दोजहद के बाद तत्काल प्रभाव से इस पर रोक लगा दी है, साथ ही करतारपुर साहिब जाने वाली सोने की पालकी को भी नहीं भेजने का फरमान सुनाया है।

इसके अलावा सोने की पालकी के नाम पर दिल्ली के बड़े गुरुद्वारों में रखी गई विशेष गोलकों को भी तुरंत बंद करने व उन्हें हटाने का आदेश दिया गया है। साथ ही पालकी जिस अवस्था में निर्मित हो रही है उसी अवस्था में उसका निर्माण रोक दिया जाना चाहिए। इसके अलावा सोने की पालकी के नाम पर संगतों से एकत्र की गई नकदी एवं सोने की जानकारी श्री अकाल तख्त साहिब एवं दिल्ली की संगत को दी जाए। दरअसल संगतों की तरफ से जत्थेदार को जानकारी दी गई थी कि दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के पास पाकिस्तान जाने के लिए कोई वैध मंजूरी नहीं है। इसके बाद जत्थेदार की तरफ से 5 सदस्यीय कमेटी का गठन किया गया था। इस कमेटी द्वारा दिल्ली कमेटी के प्रस्तावित नगर कीर्तन तथा शिअद (दिल्ली) के अध्यक्ष परमजीत सिंह सरना के प्रस्तावित 28 अक्तूबर के नगर कीर्तन में से केवल एक नगर कीर्तन ननकाना साहिब तक ले जाने की संभावना खोजी जानी थी। वहीं 5 सदस्यीय कमेटी किसी नतीजे पर नहीं पहुंची, जिसकी वजह से जत्थेदार ने बुधवार शाम अपना आदेश सुना दिया। 

पूरी मंजूरी के बाद ही नई तारीख का ऐलान किया जाए
अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार के हवाले से जारी किए गए प्रैस नोट में कहा गया है कि परमजीत सिंह सरना के ऐलान के बाद दिल्ली कमेटी के द्वारा नगर कीर्तन का ऐलान किया गया, नतीजतन दिल्ली की संगतों में दुविधा पैदा होने की बात कही गई है। इस वजह से सिख संगतों ने श्री अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार को एक नगर कीर्तन दिल्ली से लेकर जाने की अपील की थी। पाकिस्तान सरकार की तरफ से भी केवल एक ही नगर कीर्तन को ले जाने की मंजूरी मिली हुई है। हालांकि पाकिस्तान सरकार को बाकी संस्थाओं को भी ननकाना साहिब तक नगर कीर्तन ले जाने की मंजूरी देनी चाहिए थी। लिहाजा, मौजूदा हालातों के मद्देनजर तथा सिख भावनाओं को सामने रखते हुए दिल्ली कमेटी को आदेश दिया गया है कि 13 अक्तूबर को निकाले जाने वाले नगर कीर्तन को फिलहाल स्थगित किया जाए। पूरी मंजूरी मिलने के बाद ही नगर कीर्तन की नई तारीख का ऐलान किया जाए। 


Vatika

Related News