पंजाब मंत्रिमंडल का फैसला, 4 नई कोविड टेस्टिंग लैब स्थापित करने को दी मंजूरी

punjabkesari.in Monday, Jun 22, 2020 - 08:35 PM (IST)

चंडीगढ़ः पंजाब सरकार ने कोविड से जंग को मजबूती से लड़ने के लिए ने चार नई टेस्टिंग लैब स्थापित करने और इन लैबों के लिए 131 आवश्यक स्टाफ की पहल के आधार पर नियुक्ति करने का फैसला किया है। मंत्रिमंडल ने इन चार वायरल टेस्टिंग लैब में सहायक प्रोफैसर (माइक्रोबायोलॉजी) के चार पद सृजन करने और भरने के लिए चिकित्सा शिक्षा और अनुसंधान विभाग के प्रस्ताव को भी मंज़ूरी दे दी है। मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेन्द्र सिंह की अध्यक्षता में आज हुई मंत्रिमंडल की बैठक में लुधियाना, जालंधर और मोहाली में चार टेस्टिंग लैब स्थापित करने को मंजूरी दे दी। इससे प्रति दिन 13000 टैस्ट करने की क्षमता हो जाएगी। 

इस समय पटियाला, अमृतसर और फरीदकोट के मैडीकल कॉलेजों में प्रति दिन 9000 टैस्ट करने की क्षमता है। चार लैबो श्री गुरु अंगद देव वैटरनरी एंड एनिमल साईंसिस लुधियाना, पंजाब स्टेट फोरेंसिक साईंसिस लैबोरटरी मोहाली, नार्दन रीजनल डिजीज़ डायग्रौस्टिक लैबोरेटरी जालंधर और पंजाब बायोटैक्नोलॉजी इंकुबेटर मोहाली में स्थापित होनी हैं।  प्रवक्ता ने बताया कि ये सभी नियुक्तियाँ बाबा फरीद यूनिवर्सिटी ऑफ हैल्थ साईंसिस, फरीदकोट की तरफ से आउटसोर्सिंग के ज़रिये की जाएंगी। इसके अलावा स्टाफ के 131 सदस्यों की नियुक्ति से प्रति महीना 17.46 लाख रुपए जबकि एडहॉक सहायक प्रोफेसरों के पदों के विरुद्ध प्रति महीना 3.06 लाख का खर्चा आयेगा जो प्रांतीय आपदा प्रबंधन फंड से दिया जाएगा। 

स्टाफ में रिसर्च साईंटिस्ट (नॉन मैडीकल), रिसर्च साईंटिस्ट, लैब टैक्नीशियन, डाटा एंट्री ऑपरेटर, लैब अटेंडेंट और स्वीपर के पद शामिल हैं। अन्य फैसले में बैठक में पटियाला और अमृतसर के सरकारी मैडीकल कॉलेज, पटियाला और अमृतसर के सरकारी डैंटल कॉलेज और पटियाला के आयुर्वैदिक कॉलेज में सेवाएं निभा रही टीचिंग फेकल्टी की सेवा-मुक्ति की 62 साल की आयु पूरी होने के बाद फिर से नियुक्ति किए जाने को मंजूरी दे दी है। मैडीकल/आयुर्वैदिक फेकल्टी के लिए फिर से नियुक्ति की आयु 70 साल तक तथा डैंटल फेकल्टी के लिए 65 साल होगी।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Mohit

Related News

Recommended News