शराब के शौकीनों के लिए बुरी खबर, आज बंद हो जाएंगे जिले के 75 प्रतिशत से अधिक ठेके

punjabkesari.in Thursday, Jun 30, 2022 - 11:42 AM (IST)

जालंधर(पुनीत): नई एक्साइज पॉलिसी के प्रति जिले के ठेकेदारों द्वारा पूल किए जाने के कारण अधिकतर ग्रुपों के लिए टैंडर नहीं हो पाए हैं। विभाग द्वारा टैंडर भरने के लिए तिथि बढ़ाई गई थी जिसके तहत आज 30 जून दोपहर 3 बजे तक टैंडर भरने का अंतिम अवसर होगा। जिन ठेकेदारों द्वारा ग्रुप लेने के लिए टैंडर नहीं भरे गए हैं वह अब अपना स्टॉक क्लीयर करने में जुट गए हैं। शहर व देहात के अधिकतर ठेकों में बुधवार सुबह शराब के दामों में 60-70 प्रतिशत की बड़ी गिरावट देखने को मिली जिसके चलते शराब खरीदने वालों की लम्बी लाइनें ठेकों पर देखने को मिली।

एवरेज के हिसाब से जो शराब की बोतल 700 रुपए के करीब बिक रही थी, उसका दाम 350 के आसपास आ चुका है। 3 साल बाद शराब के ठेके टूट हैं और शराब के शौकीनों की मौज लग गई है। जहां एक तरफ रूटीन में बिकने वाली शराब के दामों में गिरावट दर्ज हुई है वहीं महंगे ब्रांड की कीमतें भी बेहद कम की गई हैं। ठेकों पर देखने को मिल रहा है कि उपभोक्ता अपनी जेब के हिसाब से शराब का स्टॉक करने में जुट गए हैं क्योंकि ठेके टूटने के कारण जिस दाम पर शराब मिल रही है अब नई पॉलिसी के मुताबिक निर्धारित किए जाने वाले दामों में इतनी गिरावट देखने को नहीं मिलेगी। वीरवार रात 12 बजे जिले से संबंधित शराब के 75 प्रतिशत से अधिक ठेके बंद हो जाएंगे क्योंकि इन ठेकों के लिए आवेदन नहीं आया है। अधिकारियों का कहना है कि वीरवार दोपहर बाद टैंडरों की फाइनांशियल बिड देखी जाएगी जिससे पता चलेगा कि जालंधर जिले से संबंधित कितने नए टैंडर प्राप्त हुए हैं। इसमें जो पुराने ठेकेदारों द्वारा आवेदन किया जाएगा वह अपने स्टॉक को अगली पॉलिसी में शिफ्ट करवाने का अधिकार रखेंगे।

कांग्रेस सरकार द्वारा पुराने ठेकेदारों को 15 प्रतिशत बढ़ौतरी करके शराब के ठेके अलॉट किए जा रहे थे व यह सिलसिला पिछले कई सालों से चल रहा था। इस वजह से ठेकों की समयावधि समाप्त होने पर उम्मीद के मुताबिक शराब के दामों में गिरावट नहीं की जा रही थी क्योंकि फीस अदा करके शराब का स्टॉक आगे रिन्यू करवा लिया जाता था। इस बार नई सरकार ने एक्साइज पॉलिसी में जो बदलाव किए हैं, उसके मुताबिक शराब के ठेके ग्रुपों के तहत अलॉट किए जा रहे हैं। जालंधर जिले में कुल 20 ग्रुप बनाए गए हैं जिसमें 13 ग्रुप नगर निगम की हद में जबकि 7 ग्रुप देहात इलाकों के लिए रखे गए हैं। इन ग्रुपों में 17 से 30 ठेके खोलने का प्रावधान रखा गया है। नई पॉलिसी 9 माह के लिए बनाई गई है जिसमें विभाग द्वारा सबसे बड़ी राहत देते हुए एडवांस में ली जाने वाली 17 प्रतिशत सिक्योरिटी राशि को लाइसैंस फीस में एडजस्ट करने का अवसर दिया गया है। ठेकेदारों द्वारा ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए शराब के ठेकों के बाहर नई रेट लिस्ट लगाई गई है, ताकि स्टॉक क्लीयर हो सके।

शेष बचे 15 में से 3-4 ग्रुपों के टैंडर आने की उम्मीद
अधिकारियों 
ने बताया कि जालंधर जिले से संबंधित 20 ग्रुपों में से 5 ग्रुपों के टैंडर प्राप्त हो चुके हैं। इनमें ज्योति चौक, रेलवे स्टेशन, अवतार नगर, लम्मा पिंड तथा देहात का भोगपुर वाला ग्रुप शामिल है। विभाग ने उक्त टैंडरों की फाइनांशियल बिड की जांच कर ली है। इनके कागजात सही पाए गए हैं। वहीं 3-4 ग्रुपों के लिए आवेदकों में रुचि देखने को मिल रही है। अधिकारियों ने बताया कि एक्साइज दफ्तर में कई आवेदकों ने आकर मॉडल टाऊन, परागपुर, सोढल चौक, रामामंडी आदि के ग्रुपों के अंतर्गत आने वाले इलाकों की जानकारी जुटाई। देहात के नकोदर, शाहकोट व फिल्लौर के लिए भी कई इंक्वायरी हुई हैं।

 

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vatika

Related News

Recommended News