कोरोना संकट के बीच गांव की बेटी ने विदेश में किया भारत का नाम रोशन, जान आप भी करेंगे सलाम

8/12/2020 1:53:01 PM

भगता भाई (परवीन): गांव कोठा गुरु की बेटी करमजीत कौर को आस्ट्रेलियन सेना में सेवा निभाने का मान हासिल हुआ है। 6 वर्षीय बेटी की मां होने के बावजूद भी करमजीत कौर ने यह करिश्मा कर दिखाया और आज के कोरोना महामारी के दौर में वह बखूबी से अपनी सेवा निभा रही है। 

करमजीत कौर के पिता गुरदीप सिंह धनोआ और माता राजिन्दर कौर ने गर्व से बताया कि उनकी बेटी का बचपन से ही सेना या पुलिस में भर्ती होकर सेवा निभाने का सपना था। उसके मां-बाप ने बताया कि करमजीत का बचपन से खेल की तरफ भी काफ़ी ध्यान था और इसके साथ ही वह पढ़ाई में भी काफ़ी होशियार थी।

भारत में रहते करमजीत ने पढ़ाई के बाद पुलिस और फ़ौज में भर्ती होने की कोशिश की लेकिन असफल रही। इसी दौरान ही संयोग यह बना कि वह 2008 में आगे की पढ़ाई के लिए आस्ट्रेलिया चली गई। जहां पढ़ाई पूरी करने के बाद उसकी शादी परमिन्दर सिंह निवासी बठिंडा के साथ हो गई। अपनी पढ़ाई, कामकाज और पारिवारिक जिम्मेवारियां उसके सिर होने के बावजूद भी उसने अपना फ़ौज में भर्ती होने का सपना छोड़ा नहीं। आख़िर उसकी कोशिश रंग लाई और वह आस्ट्रेलियन आर्मी का हिस्सा बन गई।


Vatika

Related News