Students के साथ रात को घटिया हरकत करता था अध्यापक, हुई बड़ी कार्यवाही

punjabkesari.in Saturday, May 14, 2022 - 09:59 AM (IST)

लुधियाना (विक्की) : जिला शिक्षा अधिकारी (सेकेंडरी) द्वारा लुधियाना के एक सरकारी सीनियर सेकेंडरी स्कूल के पीटीआई अध्यापक के खिलाफ  स्कूल की छात्राओं को रात के समय मोबाइल पर आपत्तिजनक मैसेज भेजने के संबंध में मिली शिकायत की जांच के बाद उसे आरोपी पाए जाने पर तत्काल समय से सस्पेंड कर दिया गया है। शिकायत मिलने के बाद जांच के लिए विभाग ने एक जांच टीम बनाई थी जिसकी रिपोर्ट के बाद उक्त कारवाई अमल में लाई गई है। 
 

सस्पेंशन के दौरान उसका हेड क्वार्टर कार्यालय, जिला शिक्षा अधिकारी (सेकेंडरी शिक्षा) लुधियाना में बनाया गया। मिली जानकारी अनुसार संबंधित स्कूल की कुछ छात्राओं द्वारा लिखित तौर पर शिकायत की गई थी कि उक्त पीटीआई अध्यापक रात देर रात 9 से10 बजे उन्हें मैसेज और फोन करके तंग परेशान कर रहा है। शिकायत में एक छात्रा ने आरोप लगाया  कि उक्त अध्यापक का नज़रिया उनके प्रति ठीक नहीं है।वह देर रात मैसेज कर उन्हें परेशान करता है। यही नहीं कइयों ने यह भी आरोप लगाया कि उक्त पीटीआई उन्हें गलत ढंग से स्पर्श भी करता है। वहीं दूसरी छात्रा ने बताया कि उसको मैसेज किया जाता है और फोन उठाने के लिए कहा जाता है। उसे पूछा जाता है कि वह उदास क्यों रहती है? एक अन्य छात्रा ने बताया कि वह एक मैडम के बारे में पूछता है कि वह मैडम कौन है और कहां से आती है? 2-3 अन्य छात्राओं ने रात को मैसेज करने और फोन अटेंड करने की बात कही है। एक छात्रा ने यह भी बताया कि उक्त अध्यापक उसकी मां को फोन करके उसके साथ बात करवाने के लिए कहता है। छात्राओं द्वारा अपनी लिखित शिकायत के साथ उक्त अध्यापक द्वारा किए गए मैसेजेस के स्क्रीनशॉट भी दिए गए हैं। वहीं विभागीय जांच में में संबंधित अध्यापक ने खुद भी माना है कि वह देर रात छात्राओं को मैसेज करता रहा है।  
स्कूल प्रमुख ने भी आरोपों को माना
बताया गया है कि पहले स्कूल प्रमुख को अध्यापक की हरकतों का पता लग गया था। उन्होंने खुद कमेटी बनाकर आंतरिक जांच करवाई थी जिसमें पाया गया कि अध्यापक स्कूल समय के बाद छात्राओं को मैसेज करता था। अध्यापक ने भी मैसेज भेजने की बात मानी है। स्कूल प्रमुख ने भी अपनी रिपोर्ट में इस आरोप को सही माना है। स्कूल के अधिकतर अध्यापकों का कहना है कि इस बात का पता उनको स्कूल प्रमुख से ही लगा है। वही गांव के सरपंच का कहना है कि वह अकसर स्कूल में आते रहते हैं। उन्होंने भी लिखती तौर पर उक्त अध्यापक के खिलाफ बनती कार्रवाई की मांग की है। 

यह है विभागीय रिपोर्ट
विभाग द्वारा की गई जांच रिपोर्ट में पाया गया है कि स्कूल की लड़कियों के बयान के अनुसार अध्यापक रात 10 बजे के बाद मैसेज करता था और फोन अटेंड करने के लिए मजबूर करता था। उनके द्वारा जांच टीम को दिए गए स्क्रीनशॉट देखने के बाद यह बात साबित हो जाती है कि अध्यापक के खिलाफ लगाए गए आरोप बिल्कुल सही हैं और अध्यापक ने लिखती तौर पर स्वीकार किया है कि वह मैसेज भेजता रहा है। इन आरोपों में उसकी लड़कियों के प्रति गलत भावना और गलत इरादा स्पष्ट होता है। जिसके बाद जिला शिक्षा अधिकारी द्वारा उक्त अध्यापक को तत्काल सस्पेंड कर दिया गया है


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Vatika

Related News

Recommended News