शहर में चप्पे-चप्पे पर पुलिस फोर्स तैनात, दोहरी चुनौती का करना पड़ रहा है सामना

punjabkesari.in Wednesday, May 04, 2022 - 02:55 PM (IST)

पटियाला (बलजिन्दर): श्री काली माता मन्दिर में हुई हिंसा के बाद पटियाला पुलिस शहर में शान्ति बहाली के लिए हर कोशिश में लगी पड़ी है। मंगलवार को भगवान परशुराम जयंती और ईद का त्योहार होने के कारण शहर के ज्यादातर धार्मिक स्थानों पर चप्पे-चप्पे पर पुलिस तैनात रही। माल रोड पर ईदगाह में ईद के मौके बड़ी संख्या में मुस्लिम समुदाय के लोग नमाज अदा करने के लिए आए हुए थे, यहां भी पुलिस ने सुरक्षा के सख्त प्रबंध किए। इसी तरह राजपुरा रोड पर श्री हनुमान मंदिर में जहां भगवान परशुराम जयंती का समागम था वहां भी बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स को तैनात किया गया। दूसरी तरफ सुरक्षा के मद्देनजर एस.एस.पी. दीपक पारीक खुद सड़कों पर उतरे। वह टीम समेत ईदगाह के बाहर पहुंचे और सुरक्षा प्रबंधों का जायजा लिया। वह श्री काली माता भी पहुंचे और सुरक्षा प्रबंधों का जायजा लिया। पुलिस ने श्री काली माता मन्दिर की सुरक्षा को और बढ़ा दिया है। मंदिर को जाने वाले सभी रास्तों की बैरीकेड़िंग कर दी गई है। मंदिर के पिछले तरफ भी सुरक्षा बढ़ा दी गई है।

मौके की नजाकत को देखते हुए पटियाला में आज दूसरे थानों की फोर्स के अलावा रिजर्व बटालियनों भी तैनात की गई हैं। श्री काली माता मन्दिर में हुए हमले के बाद पटियाला पुलिस के लिए शहर में शान्ति बहाली एक बड़ी चुनौती बन गई थी। फिलहाल पुलिस ने यहां हालात पर काबू पाया हुआ है। पटियाला में धार्मिक स्थानों की सुरक्षा बढ़ाने का कारण यह भी है कि थोड़ी-सी शरारत मामले को गंभीर बना सकती है। पटियाला पुलिस को दोहरी चुनौती का सामना करना पड़ रहा है। एक तो शहर में शान्ति बहाली के लिए कोशिश करनी पड़ रही है। दूसरी तरफ हिंसा की जांच करके उसमें शामिल दोनों पक्षों के व्यक्तियों खिलाफ कार्यवाही भी करनी पड़ रही है। दोनों चुनौतियां बड़ी हैं क्योंकि मामला काफी ज्यादा संवेदनशील होने के कारण पुलिस के लिए कोई कार्यवाही आसान नहीं है।

हालांकि सरकार ने हिंसा के बाद एस.एच.ओ. से लेकर आई.जी. तक के तबादले कर नई टीम तैनात कर दी गई थी। हिंसा के क्या कारण बने, इस पर वर्तमान पुलिस की टीम बात ही नहीं करना चाहती है। यह कह कर टाल दिया जाता है कि यह उनसे पहले का विषय है। इसके बावजूद स्थिति अभी भी काफी ज्यादा गंभीर है। पुलिस की तरफ से बड़ी सूझबूझ के साथ दोनों पक्षों से जहां भी गलती लग रही है, कार्यवाही की जा रही है। इस कारण किसी भी पक्ष को अभी बोलने का मौका नहीं मिल रहा। पुलिस की तरफ से इस मामले में चुपचाप गिरफ्तारियां डाली जा रही हैं। जब तक पूर्ण शान्ति बहाल नहीं हो जाती,तब तक पुलिस के लिए यह मामला चुनौती बना हुआ है। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News