इस जिले ने मुफ्त ऑनलाइन शिक्षा की शुरूआत करने में की निवेकली पहल

punjabkesari.in Saturday, May 14, 2022 - 01:57 PM (IST)

कपूरथला (महाजन/मल्होत्रा): डिप्टी कमिश्नर विशेष सारंगल की निवेकली पहल सदका कपूरथला पहला ऐसा जिला बन गया है, जहां सरकारी स्कूलों के 10 हजार बच्चों को ऑनलाइन क्षेत्र की प्रमुख संस्था ‘बायजूस’ के साथ समझौते के अंतर्गत गुणवत्ता भरपूर मुफ्त ऑनलाइन शिक्षा मुहैया करवाई जाएगी। इसके अंतर्गत सरकारी स्कूलों के 4 से 12वीं कक्षा तक के विद्यार्थियों को अंग्रेजी, हिंदी और पंजाबी भाषा में ई-लर्निंग के लिए सामग्री बिल्कुल मुफ्त मुहैया करवाई जाएगी। यह शिक्षा सामग्री पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के सिलेबस के अनुकूल है। 

डिप्टी कमिश्नर विशेष सारंगल की तरफ से आज सरकारी स्कूल घंटा घर और सरकारी रणधीर स्कूल के बच्चों को ई-लर्निंग के लाइसेंस (सब-सकरिप्शन) जारी किए। अब तक अलग-अलग सरकारी स्कूलों के 500 के करीब बच्चों को सब-सकरिप्शन जारी कर दी गई है जबकि कुल 10,000 विद्यार्थियों यह सुविधा मिलेगी। यह सब-सकरिप्शन 3 वर्ष के लिए योग्य होगी। जिस दौरान विद्यार्थी पिछली कक्षा के रह चुके कंसैपट भी समझ सकेंगे। डिप्टी कमिश्नर ने बताया कि ई-लर्निंग के लिए प्रदान की जाने वाली शिक्षा सामग्री पंजाब स्कूल शिक्षा बोर्ड के सिलेबस और मापदंडों अनुसार है और इस बदले विद्यार्थी के पास से कोई फीस नहीं के ली जाएगी। उन मुफ्त सब-सकरिप्शन हासिल करने वाले विद्यार्थियों को मुबारकबाद देते कहा कि विद्यार्थी अपने जीवन का लक्ष्य मानकर उसकी प्राप्ति के लिए मेहनत करें जिसमें ऑनलाइन शिक्षा सामग्री बहुत सहायक होगी।

दूसरे पड़ाव में सरकारी स्कूलों अंदर विद्यार्थियों को लड़कियों के साथ सम्बन्धित शारीरिक समस्याओं बारे जानकारी, कॉमर्स, मेडिकल, अर्थशास्त्र, स्थायी विकास के लक्ष्यों की प्राप्ति, अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मौसमी तबदीलियों बारे जानकारी प्रदान करने के लिए सामग्री मिलेगी। मुकाबलों की परीक्षाएं और विशेष कर आई.आई.टी., जे.ई.ई., नीट की तैयारी के लिए इसको एक मील पत्थर इकरार देते डिप्टी कमिश्नर ने कहा कि विद्यार्थियों को राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के मुकाबलों के लिए तैयार करने के लिए जिला प्रशासन पूरी तरह वचनबद्ध है। डिप्टी कमिश्नर से सब-सकरिप्शन प्राप्त करने वाले 12वीं कक्षा के विद्यार्थी दिपांशु और जतिन धवन ने बताया कि लॉकडाऊन दौरान उनके मता-पिता ने पैसे खर्च करके उनको ऑनलाइन सब-सकरिप्शन लेकर दी थी, जिसका उनको बड़ा लाभ मिला परन्तु अब उनको जिला प्रशाशन की तरफ से मुफ्त सब-सकपरिप्शन देने से उनको पढ़ाई में और ज्यादा मदद मिलेगी।

उन्होंने शिक्षा विभाग के आधिकारियों को कहा कि वह जिले के सरकारी स्कूलों अंदर ई-लर्निंग लाइसेंस के अंतर्गत मिलने वाली सामग्री का विद्यार्थियों तक पहुंचना यकीनी बनाने के लिए योग्य विद्यार्थियों के मोबाइल नंबर और अन्य अपेक्षित डाटा तुरंत भेजें जिससे विद्यार्थियों को सब-सकरिप्शन मिल सके। जिला शिक्षा अफसर सेकेंडरी रामपाल सिंह ने कहा कि एक सप्ताह  के अंदर-अंदर सभी विद्यार्थियों को सब -सकरिप्शन दे दी जाएगी जिससे वह छुट्टियों दौरान कहीं भी रहकर ऑनलाइन पढ़ाई के साथ जुड़े रह सकें। इस मौके गौरव, अध्यापिका सन्दीप कौर और बुद्धदेव भी उपस्थित थे। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News