डेंगू से मरने वालों की संख्या बढ़ी, फॉगिंग न होने से लोग परेशान

10/19/2021 11:28:40 AM

अमृतसर (दीपक शर्मा): जहां जिला स्वास्थ्य विभाग जानबूझकर डेंगू प्रभावितों और मौतों की संख्या बता रहा है। वहीं दूसरी ओर डेंगू का असर जैसे-जैसे तेज होता जा रहा है, निजी अस्पतालों में मरीजों के भर्ती होने की कोई जगह नहीं मिल रही। इसके अलावा विजय नगर थाना क्षेत्र मोहकमपुरा, प्रीत नगर, न्यू पवन नगर, गगन कॉलोनी, शिव नगर, वेरका, भारत नगर, बटाला रोड राम नगर, कृष्णा स्क्वायर, शिवाला कॉलोनी, सुंदर नगर, तुंगबाला, कश्मीर एवेन्यू और पूर्वी निर्वाचन क्षेत्र में 2 दर्जन से अधिक ऐसे क्षेत्र हैं जहां हाल के दिनों में डेंगू का खतरा बढ़ गया है। डेंगू पीड़ितों की संख्या हजारों की संख्या में बढ़ रही है, जबकि मरने वालों की संख्या थमने का नाम नहीं ले रही है।

न्यू प्रीत नगर में भाजपा नीरज सिंह ने बताया क्षेत्र थाना मोहकमपुरा में करीब 1 महीने में नगर निगम ने किसी भी छिड़काव या डेंगू को रोकने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है, मौतें बढ़ रही हैं। बीमारी जंगल में आग फैलने जैसी है। पंजाब प्रदेश कांग्रेस पार्टी के प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू खिलाफ चुनाव लडने वाले भाजपा नेता हनी ने बताया कि सरकार तथा प्रशासन नाम की कोई चीज नहीं है। अगर स्वास्थ्य मंत्री इसी शहर से हैं तो उन्हें उद्घाटन और तालियां बजाने का समय नहीं मिलता लेकिन पुख्ता इंतजाम नहीं होने से डेंगू का खतरा बना रहता है। गत दिनों विजय नगर में अरुण कुमार पोपा, हिंदू संघर्ष सेना के अध्यक्ष, सुंदर नगर में देवगन चक्की वाला और न्यू प्रीत नगर में सत्यम की डेंगू से मौत हो चुकी है।

शिअद नेता डॉ. दलबीर सिंह ने कहा कि सत्तारूढ़ दल के नेताओं को डेंगू से पीड़ित बीमार लोगों पर तरस नहीं आता। स्थिति इतनी विकट हो गई है कि पंजाब सरकार की खामोशी के लिए किसी ने डेंगू से मरने वालों के परिवारों से भी नहीं पूछा और आर्थिक सहायता देना तो दूर की बात है। इस बीच, डेंगू के बढ़ते खतरे के कारण केमिस्ट, डॉक्टर और फल विक्रेता निजी परीक्षण प्रयोगशालाओं को लूट रहे हैं। सरकारी जिला प्रशासन लूटपाट रोकने की बजाय लोगों के स्वास्थ्य को खतरे में डालकर तमाशा देख रहा है। प्रभावित क्षेत्रों में कई दिनों से लगातार कूड़े के ढेर के कारण क्षेत्र में सैंटरी इंस्पैक्टर दिलबाग सिंह की तरस और नीयत से सफाई कर्मचारी ड्यूटी से गैर-हाजिर हैं परन्तु नगर निगम के अधिकारी खामोश हैं।

प्रमुख विशेषज्ञ डॉ. आर.के. धवन ने कहा कि डेंगू से प्रभावित लोगों को इसकी रोकथाम के लिए गंभीरता से इलाज करना चाहिए, क्योंकि डेंगू बुखार लगातार बढ़ रहा है, जबकि डेंगू मच्छर को मारन वाली दवाई का छिड़काव उनके घरों और क्षेत्रों में किया जाना चाहिए। डॉ. धवन ने कहा कि डेंगू से पीड़ित लोगों को मोबाइल फोन का ज्यादा इस्तेमाल नहीं करना चाहिए क्योंकि मोबाइल की रेंज से तनाव बढ़ता है और डेंगू के सेल्स तेजी से नीचे गिरते हैं।

नगर निगम, स्वास्थ्य विभाग को बीमारी पर नियंत्रण के लिए तत्काल कदम उठाने चाहिए, क्योंकि शहर में डेंगू का खतरा बढ़ गया है और अब गांवों में डेंगू का खतरा तेजी से बढ़ रहा है। क्षेत्र में सुधार न्यास के अध्यक्ष और कांग्रेस पार्षद दमनदीप की पहल पर नगर निगम ने कई दिनों बाद क्षेत्र में मच्छर फॉगिंग की व्यवस्था की है लेकिन स्थिति तेजी से बिगड़ती जा रही है।
 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sunita sarangal

Related News

Recommended News