चंद्रमा गैंग के 4 लुटेरे व 2 कबाड़ी काबू;  सरगना सहित 6 फरार

9/22/2019 8:49:56 AM

लुधियाना(ऋषि): कुछ समय में ही एक के बाद एक गन प्वाइंट पर लूट की वारदातें कर फैक्टरी मालिकों के मन में डर पैदा कर चुके चंद्रमा गैंग को सी.आई.ए.-1 की पुलिस ने दबोचकर त्यौहारों से पहले शहर की इंडस्ट्री को तोहफा दिया है। पुलिस ने गैंग के 4 लुटेरों और चोरीशुदा सामान खरीदने वाले 2 कबाडिय़ों को दबोचकर थाना फोकल प्वाइंट में केस दर्ज किया है, जबकि सरगना सहित 6 लुटेरे फरार हैं। पुलिस को इनके पास से वारदात में प्रयोग किए जाने वाले वाहन, हथियार और लाखों का चोरीशुदा कॉपर, पीतल और निकल बरामद हुआ है। उपरोक्त जानकारी पुलिस कमिश्नर राकेश अग्रवाल ने शनिवार को पत्रकार सम्मेलन दौरान दी।

उन्होंने बताया कि अब तक की जांच में सामने आया है कि इस गैंग द्वारा दिन के समय फोकल प्वाइंट और इसके आसपास के एरिया में रैकी कर ऐसी फैक्टरियां ढूंढी जाती थीं जिनके आसपास का इलाका सुनसान हो और फैक्टरी में सिक्योरिटी गार्डों और वर्करों की रात के समय कमी हो जिसके बाद अंधेरा होते ही चंद्रमा गैंग वहां धावा बोल देता और चंद मिनटों में अपने साथ लाए गए छोटे हाथी और ट्रक में चोरीशुदा सामान लादकर ले जाता। चोरी का सामान लोड और अपलोड करने की जिम्मेदारी कबाड़ी की होती थी। 

पकड़े गए याकीर और रंजन के खिलाफ पहले भी 6 मामले दर्ज हैं जिनमें कई मामलों में उन्हें अदालत द्वारा भगौड़े करार दिया जा चुका है। एस.आई. अवतार सिंह के अनुसार आरोपियों को अदालत में पेश कर 2 दिन के पुलिस रिमांड पर गहनता से पूछताछ की जा रही है। वहीं फरार आरोपियों की तलाश में लगातार छापेमारी जारी है।

1 महीने में हुई दो वारदातें हल
ए.सी.पी. मनदीप सिंह के अनुसार इस गैंग के पकड़े जाने के बाद 1 महीने में हुई 2 बड़ी वारदातें हल हुई है। गैंग ने 23 अगस्त 2019 को थाना फोकल प्वाइंट और 9 सितम्बर 2019 को थाना डिवीजन नं. 6 के इलाके में फैक्टरी वर्करों और सुरक्षाकर्मियों को बंधक बनाकर गन प्वाइंट पर वारदात की थी। डिवीजन नं.6 में की गई वारदात में गैंग द्वारा ट्रक प्रयोग किया गया था जिसकी भी तलाश की जा रही है। 

जेल में बना गैंग, बाद में जुड़ते गए मैंबर
डी.सी.पी. डिटैक्टिव सिमरतपाल सिंह ढींढसा के अनुसार गैंग के पकड़े गए 2 लुचेरों याकीर और रंजन की मुलाकात सैंट्रल जेल में सजा काटते समय हुई जिसके बाद जमानत पर आकर 4 महीने पहले इन्होंने बड़े हाथ मारने का प्लान बनाया और दिनों में ही अन्य आरोपियों को अपने साथ जोड़कर बड़ा गैंग बना लिया। पुलिस के अनुसार फरार आरोपियों के पकड़े जाने के बाद उनके बारे में खुलासे होंगे। अवैध रिवाल्वर रंजन कुमार ही 3 महीने पहले यू.पी. से 30 हजार रुपए में लेकर आया था। 

ये हैं पकड़े गए आरोपी

  • याकीर हुसैन (28) निवासी कंपनी बाग, कृष्णा विहार।
  •  रंजन कुमार  (23) निवासी सरपंच कालोनी, रामगढ़।
  •  राजेश कुमार (42) निवासी अमरदास कालोनी, ग्यासपुरा।
  •  सारीक सैफी (22) निवासी गुलाबी बाग, टिब्बा रोड।
  •  कुलविंदर सिंह (33) निवासी बाजीगर कालोनी, चंडीगढ़ रोड़ (कबाड़ी)
  •  रमन कुमार (38) निवासी हिम्मत सिंह नगर (कबाड़ी)

फरार आरोपियों की पहचान 

  •  चंद्रमा यादव (सरगना)
  •  संतोष निवासी फोकल प्वाइंट
  •  नैक्सी निवासी कोहाड़ा
  •  स्वर्ण कुमार निवासी डाबा रोड
  •  दीपक निवासी 100 फुटा रोड

swetha

Related News