कोविड से निपटने के लिए राज्य की 6 जेलों को विशेष जेलों में बदला

8/1/2020 8:30:53 PM

चंडीगढ़ः पंजाब सरकार ने कोरोना संक्रमण जेलों तक पहुंचने के चलते नए कैदियों के लिए छह जेलों को विशेष जेलों में तब्दील कर दिया है। दो अन्य जेलों को कोविड के मरीज कैदियों के इलाज के लिए स्तर-1 कोविड केयर सैंटर के तौर पर घोषित कर दिया गया है। यह जानकारी जेल मंत्री सुखजिन्दर सिंह रंधावा ने आज यहां बयान में दी। उन्होंने बताया कि कोरोना महामारी के खिलाफ ‘मिशन फतेह' मुहिम के तहत जेल विभाग ने भी पूरी कमर कस ली है। 

छह जेलों को नए कैदियों के लिए एकांतवास जेलों में तब्दील किया गया है। पहले चरण में बरनाला और पट्टी जेल को एकांतवास जेलों में तब्दील किया गया था। कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते हुए बठिंडा, पठानकोट, लुधियाना और महिला जेल लुधियाना को विशेष जेल घोषित करते हुए नये कैदियों के एकांतवास के लिए आरक्षित रख दिया है। उन्होंने कहा कि हर नए कैदी को पहले इन जेलों में भेजा जाता है जहाँ इनकी पूरी स्क्रीनिंग के बाद 14 दिनों के एकांतवास पर रखा जाता है। इसके बाद टेस्टिंग करवाने के उपरांत ठीक पाए जाने वाले कैदियों को संगरूर जेल भेजा जाता है जहां उनको एहतियात के तौर पर 14 दिन और एकांतवास पर रखा जाता है। इसके बाद ठीक कैदियों को बाकी जेलों में क्षमता के अनुसार शिफ्ट किया जाता है। 

उनके अनुसार राज्य की कुल 25 जेलों में इस समय पर 23,500 कैदियों की क्षमता है और 17,000 कैदी जेलों में हैं। सुप्रीम कोर्ट के दिशा-निर्देशों पर जेलों में सामाजिक दूरी के पालन को यकीनी बनाने के लिए उच्चाधिकार समिति के फैसले के बाद मार्च से लेकर अब तक 11,500 कैदियों को पैरोल पर छोड़ा गया है। पंजाब सरकार ने अच्छे आचरण वाले कैदियों के लिए बनाए एक्ट में संशोधन करके अधिक से अधिक पैरोल का समय भी 16 हफ्ते से बढ़ा दिया था। उन्होंने कहा कि सत्रह हजार कैदियों में से 9000 कैदियों का कोविड टैस्ट करवाया जा चुका है जिनमें से 150 कैदी अब तक कोविड पॉजिटिव पाए गए हैं। इन कैदियों को इलाज के लिए गुरदासपुर और मालेरकोटला जेलों में शिफ्ट किया जा रहा है जिनको जेल विभाग ने स्तर-1 कोविड केयर सैंटर में तबदील किया हुआ है।


Mohit

Related News