मीनार-ए-फतेह को लेकर बोले एडवोकेट धामी, सरकार को दी चेतवनी

punjabkesari.in Monday, Aug 15, 2022 - 11:14 AM (IST)

अमृतसर (दीपक): सिख जरनैल बाबा बंदा सिंह बहादुर द्वारा सरहिंद की विजय के उपलक्ष्य में चप्पड़चिड़ी में बनवाया गया स्मारक मीनार-ए-फतेह को रोशनी करके तिरंगे का रंग देना सिख भावनाओं से खिलवाड़ है। ऐसा करके पंजाब की आम आदमी पार्टी के नेतृत्व वाली सरकार ने अच्छा नहीं किया। इन शब्दों को व्यक्त करते हुए शिरोमणि गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी के अध्यक्ष एडवोकेट हरजिंदर सिंह धामी ने कहा कि सिख जरनैल बाबा बंदा सिंह बहादुर ने उस समय के क्रूर शासक को उसकी ओर से किए जा रहे अत्याचारों की सजा देते सरहिंद को जीतकर खालसायी झंडा फहराया था। बाबा बंदा सिंह बहादुर की याद में बने स्मारक को रोशनी के साथ तिरंगे के रूप में रंग के सिखों की भावनाओं को ठेस पहुंची है।

राष्ट्रपति धामी ने कहा कि देश की मान्यताओं का सम्मान किया जाता है लेकिन धर्म की मान्यताएं इससे अलग हैं। उन्होंने कहा कि गुरु साहिबान के नाम पर बसने वाले पंजाब के अंदर भगवंत मान सरकार ने गुरु साहिब के फलसफे और सिख भावनाओं के खिलाफ अपनी हरकतों से सिख विरोधी मानसिकता का परिचय दिया है। एडवोकेट धामी ने कहा कि देश में जानबूझकर सिख भावनाओं के विपरीत माहौल बनाया जा रहा है जिससे सिखों में भारी रोष है। इससे पहले जिला प्रशासन की ओर से हरियाणा के गुरुद्वारा साहिब में कार्यक्रम आयोजित करने के लिए पत्र जारी किया गया था, जिसे श्रद्धालुओं के विरोध के बाद वापस ले लिया गया।

उन्होंने कहा कि ऐतिहासिक गुरुद्वारा इमली साहिब इंदौर में तिरंगा फहराकर सिख भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है। सिख परंपराओं के बारे में सभी जानने के बावजूद मर्यादा के विपरीत इस तरह के कार्यों से सिखी भावनाओं को भड़काया जा रहा है। एडवोकेट धामी ने कहा कि शिरोमणि कमेटी इन सिख विरोधी कृत्यों की निंदा करती है और सरकार को चेतावनी दी है कि वह इस तरह के कृत्यों से गुरेज करें।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News