कोरोना से बचाव के लिए टीका लगाने के बाद शराब से बनानी होगी दूरी, जानिए पूरा मामला

12/12/2020 2:30:39 PM

पंजाब डेस्क: कोरोना वायरस का कहर झेलते हुए दुनिया को एक साल से ज्यादा समय हो गया है। लेकिन फिर भी वैक्सीन के बारे में कोई ही पुख्ता परिणाम सामने नहीं आ रहे है। ऐसे मामले भी सामने आ रहे है जब वैक्सीन के बाद भी मरीज कोरोना पॉजिटिव निकल रहे है। हालांकि कई देशों में वैक्सीन को लेकर रिसर्च, अनुसंधान जारी है और ये भी उम्मीद जताई जा रही है कि जनवरी तक महामारी को वैक्सीन से हराया जा सकेगा। इस संबंधी भारत को भी बड़ी सफलता मिलते हुए पहले mRNA टीके को ह्यूमन ट्रायल की मंजूरी मिल गई है। 

लेकिन इन्ही सब के बीच रूस के उपप्रधानमंत्री ततियाना गोलिकोवा ने अपने देश में कोरोना वायरस से बचाव का टीका लेने वाले मरीजों के लिए एक अटपटी सलाह देते हुए कहा है कि अगर चाहते है कि वैक्सीन अपना काम करे तो शराब को भूल जाएं। जी हां, रूस के उपप्रधानमंत्री ने बयान जारी करते हुए कहा है कि शराब का सेवन वायरस के बचाव के लिए लगाए गए टीके का असर कम कर सकता है।

यहां तक की रूस में जगह-जगह पर पोस्टर लगाकर लोगों को जागरूक किया जा रहा है कि स्पूतनिक-V वैक्सीन लगाने के बाद दो महीनों तक शराब से दूरी बनाए रखे। कंज्यूमर सेफ्टी वॉचडॉग की प्रमुख अन्ना पोपोवा ने भी कहा, कोविड19 स्ट्रेन को खत्म करने और अपने स्वास्थ्य के लिए शराब बिल्कुल न पीएं।

आखिर क्यों हानिकारक है शराब? 
शराब का सेवन करने से शरीर की प्रतिरोधक शमता और इम्यून सिस्टरम कम होता है। इसी के कारण मनुष्य का शरीर बीमारियों से लड़ने के लिए धीरे-धीरे कमजोर होता रहता है, जिसके कारण संक्रमण के साथ-साथ दूसरी बीमारियों की चपेट में भी आ जाना आसान हो जाता है। ऐसे में कोरोना महामारी के समय शराब का सेवन करना बेहद हानिकारक है।

शराब आपके दिल और फेफड़ों को प्रभावित कर सकती है। जो लोग शराब पीते हैं, उन्हें दिल संबंधी बीमारियां होने का जोखिम काफी अधिक होता है। इसी के साथ-साथ उच्च रक्त चाप से लेकर अनियमित दिल की धड़कन, शरीर के माध्यम से रक्त पंप करने में कठिनाई, आघात, दिल का दौरा, दिल की बीमारी, हृदय का रुक जाना आदि बीमारियों की संभावना भी बढ़ जाती हैं।


Tania pathak

Recommended News