27 वर्ष पहले मरी पत्नी के पासपोर्ट पर नई दुल्हन को ले गया अमरीका, ऐसे खुली पोल

punjabkesari.in Tuesday, Sep 01, 2020 - 10:34 AM (IST)

गुरदासपुर: पहली पत्नी के देहांत के बाद किसी दूसरी महिला से विवाह करवा कर उसे पहली पत्नी के नाम से अमरीका ले जाने तथा बाद में वहां दूसरी पत्नी की जयदाद में हिस्सेदारी हड़पने वाले व्यक्ति तथा उसके बेटे के विरुद्ध एन.आर.आई. पुलिस स्टेशन गुरदासपुर ने धारा 465,467,468,471,177,198 तथा 120-बी अधीन केस दर्ज कर लिया है।

आरोपी अमरीका में है, जिस कारण अभी उनकी गिरफ्तारी नहीं हो सकी है। इस केस की जांच कर रहे एन.आर.आई. पुलिस स्टेशन में तैनात सहायक सब-इंस्पैक्टर दारा सिंह ने बताया कि आरोपी अजमेर सिंह पुत्र सुलखन सिंह निवासी काहलवां, जो इस समय अमरीका में रहता है, की पत्नी रूपिन्द्रजीत कौर का निधन 7 जनवरी 1993 में हो गया था। आरोपी का यादविन्द्र सिंह नामक एक बेटा भी है। बाद में आरोपी ने दोबारा एक अन्य महिला व शिकायतकत्र्ता अमनदीप कौर पुत्री जसबीर सिंह निवासी कादियां से विवाह करवा लिया तथा उसे अपनी पहली पत्नी रूपिन्द्रजीत कौर के पासपोर्ट में हेराफेरी कर अमरीका ले गया और वहां अमनदीप कौर के पैसों से हिस्सेदारी कर अपना कामकाज शुरू कर लिया।

बाद में अजमेर सिंह, अमनदीप कौर तथा उसका बेटा भारत आए तथा अजमेर सिंह ने 15-3-1998 में काहलवां में ही अपनी पहली पत्नी रूपिन्द्रजीत कौर की मौत होने संबंधी पुलिस से मिलीभगत कर उसका जाली मौत का सर्टीफिकेट तैयार कर लिया। उसके बाद दोनों बाप-बेटा अमरीका चले गए तथा जाली बने मौत के सर्टीफिकेट के आधार पर अजमेर सिंह तथा उसके बेटे यादविन्द्र सिंह ने अमनदीप कौर के कारोबार में लगे पैसे हड़पने के लिए सारी जयदाद अपने नाम करवा ली तथा अमनदीप कौर को पहचानने से इंकार कर दिया। अमनदीप कौर ने अपने साथ हुए फ्रॉड की शिकायत यू.आई.डी. नंबर 1575793 अनुसार कर इंसाफ की गुहार लगाई। अमनदीप की शिकायत की जांच सब-इंस्पैक्टर प्रभदियाल द्वारा की गई तथा जांच में पाया कि अजमेर सिंह तथा उसके बेटे ने अमनदीप के साथ धोखा किया है तथा अजमेर सिंह की पत्नी रूपिन्द्रजीत कौर, जिसकी मौत 7 जनवरी 1993 को हुई थी, उसकी मौत 15 मार्च 1998 को दिखाकर जाली मौत का सर्टीफिकेट बनाया तथा उसका अमरीका में दुरुपयोग किया।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Vatika

Related News

Recommended News