CM भगवंत मान ने गृह विभाग अपने पास रखकर दिया यह संकेत

punjabkesari.in Tuesday, Mar 22, 2022 - 11:02 AM (IST)

जालंधर (धवन): पंजाब में मुख्यमंत्री भगवंत मान ने अपने मंत्रियों में विभागों की बांट करते हुए सरकार के सबसे अहम गृह विभाग को अपने पास रखा है जिसके अंतर्गत समूची पंजाब पुलिस, विजिलेंस और अन्य जांच एजेंसियां आतीं हैं। पूर्व कांग्रेस सरकार में पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने गृह विभाग अपने पास नहीं रखा था बल्कि कांग्रेस हाईकमान ने गृह विभाग उपमुख्यमंत्री सुखजिन्दर सिंह रंधावा को सौंपा था।

यह भी पढ़ेंः 'केसरी रंग' ने बदली पंजाब में आम आदमी पार्टी की पहचान

कांग्रेस के पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने जरूर गृह विभाग अपने के पास रखा हुआ था। मौजूदा मुख्यमंत्री भगवंत मान ने गृह विभाग अपने पास रखकर एक तो यह भी संकेत दे दिया है कि सभी जिलों में सीनियर पुलिस आधिकारियों की नियुक्तियां वह खुद करेंगे। यूं तो आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय कन्वीनर अरविन्द केजरीवाल ने अब विधायकों को यह संदेश दे दिया था कि कोई भी विधायक मुख्यमंत्री के पास डी.सी., एस.पी. और तहसीलदारों के तबादलों को लेकर चंडीगढ़ नहीं जाएगा।

यह भी पढ़ेंः पंजाब विधानसभा सत्र का आज आखिरी दिन

मुख्यमंत्री भगवंत मान के करीबियों का मानना है कि मंत्रियों को सरकारी विभाग तो सौंप दिए गए हैं परन्तु अब मंत्रियों पर अरविन्द केजरीवाल और मुख्यमंत्री भगवंत मान की खुफिया नजरें लगातार बनीं रहेंगी। केजरीवाल ने स्पष्ट कर दिया था कि वह भ्रष्टाचार को किसी भी कीमत पर सहन नहीं करेंगे। इसका प्रभाव आज कई मंत्रियों पर स्पष्ट दिखाई दे रहा था। भगवंत मान ने गृह विभाग और पर्सोनल विभाग अपने पास रखकर सरकार में अपनी पकड़ को मजबूत किया है। चंडीगढ़ में सीनियर प्रशासनिक और पुलिस अधिकारी अब सीधे मुख्यमंत्री भगवंत मान प्रति जवाबदेह होंगे। 

यह भी पढ़ेंः नई SIT के गठन के बाद बिक्रम मजीठिया की सुनवाई आज

विभाग की बांट द्वारा भगवंत मान में प्रशासनिक और पुलिस पर भी अपनी पकड़ बनाए रखने के संकेत के दिए हैं। आम आदमी पार्टी और ओर राजनीतिक पार्टियां भी मुख्यमंत्री भगवंत मान की तरफ देख रही थीं कि वह विभागों की बांट करते समय गृह विभाग किसी अन्य को देते हैं या अपने पास रखते हैं। मुख्यमंत्री भगवंत मान ने सूझबूझ वाला फैसला लेते हुए पार्टी विधायकों पर भी अपनी पकड़ को मजबूती के साथ बनाए रखने के संकेत दिए हैं। इस तरह मुख्यमंत्री ने चाहे अपने पास 27 विभाग रखे हैं परन्तु आने वाले दिनों में भगवंत मान ने 7 अन्य मंत्री बनाने हैं। उनको भी आने वाले दिनों में विभाग दिए जाने हैं इसलिए संभव ही मुख्मंत्री अपने विभागों में से कुछ विभाग अन्य मंत्रियों को दे सकते हैं।

यह भी पढ़ेंः अमृतधारी ड्राइवर को ट्रक खाली करने के लिए क्यों करवाया 4 घंटे इंतजार, जानें वजह

एक अन्य अहम फैसला लेते हुए मुख्यमंत्री भगवंत मान ने वित्त मंत्री के साथ ही आबकारी और टैक्स विभाग रख दिया है। यह दोनों विभाग सरकार की कमाई में अहम योगदान डालते हैं। ऐसी स्थिति में मुख्यमंत्री ने वित्त मंत्री हरपाल सिंह चीमा को भी मजबूती प्रदान की है। डा. विजय सिंगला को इस लिए सेहत विभाग दिया गया है क्योंकि वह खुद पेशे से डाक्टर हैं। मुख्यमंत्री का सरकारी विभाग बांटने का खुद का अधिकार क्षेत्र है परन्तु फिर भी बताया जाता है कि भगवंत मान ने इस बारे आम आदमी पार्टी के हाईकमान के साथ भी विचार-विमर्श किया था। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News