Coronavirus: नियमों की धज्जियां उड़ा रहे लोग, न मास्क न सोशल डिस्टैंसिंग

1/11/2021 2:03:24 PM

लुधियाना: पिछले कुछ दिनों से कोरोना वायरस के मरीजों की संख्या में कमी आने पर लोग फिर से बेपरवाह हो गए हैं। बहुत कम लोग ही नियमों का पालन कर रहे हैं जबकि अधिकतर न मास्क लगा रहे हैं, न सोशल डिस्टैंसिंग का ध्यान रख रहे हैं और न ही बार-बार हाथों की सफाई की तरफ ध्यान दे रहे हैं। यह नजारा दफ्तरों, दुकानों, भीड़भाड़ वाले बाजारों में आम देखा जा सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि अगर लोगों का यही हाल रहा तो कोरोना के मरीज फिर से बढ़ सकते हैं। दूसरी ओर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने भी माना कि पिछले 2-3 दिनों में कोरोना के मामले फिर से बढ़े हैं। अगर लोगों ने जागरूकता नहीं दिखाई तो हालात पहले जैसे हो सकते हैं। लोगों से बार-बार अपील की जा रही है कि वैक्सीन आने तक सभी नियमों का ध्यान रखें जबकि विशेषज्ञों का कहना है कि वैक्सीनेशन के बाद भी नियमों का पालन करना पड़ेगा क्योंकि दुनियाभर में नई वैक्सीन लगाने का सिलसिला शुरू किया जा रहा है, यह कितनी असरदार होगी यह उसके लगाने के बाद कुछ दिनों में पता चलेगा।

16 जनवरी से शुरू होगी वैक्सीन लगाने की मुहिम
जिले के स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि 16 जनवरी से हैल्थ केयर वर्करों में व्यक्ति लगाने का काम शुरू हो जाएगा। इसके लिए जिले में 67 कोल्ड चेन प्वाइंट बनाए गए हैं तथा 805 सैशन साइट होंगे। उन्होंने बताया कि पहले चरण में 30,000 हैल्थ केयर वर्करों को वैक्सीन लगाई जाएगी जिसमें सरकारी तथा निजी अस्पतालों आदि के हेल्थ केयर वर्कर शामिल होंगे। जिन अस्पतालों में हैल्थकेयर वर्करों की संख्या 100 से ऊपर होगी, उनके परिसर में ही सैशन साइट बनाई जाएगी जहां कर्मचारियों का टीकाकरण होगा। जिन अस्पतालों में हैल्थकेयर वर्करों की संख्या 100 से कम होगी, उनका टीकाकरण सरकारी अस्पतालों में होगा।

स्वास्थ्य अधिकारियों ने बताया कि वैक्सीन लगाने के लिए जिला प्रशासन की मीटिंग 11 जनवरी को आयोजित हो रही है जिसमें विस्तार पूर्वक सभी मुद्दों पर चर्चा होगी तथा ड्राई रन की गई तैयारियों का पुन्न आकलन किया जाएगा।

पल्स पोलियो मुहिम लंबित
जिले में हैल्थकेयर वर्करों में वैक्सीन लगाने की शुरूआत करने के चलते 17 जनवरी को शुरू होने वाली पल्स पोलियो मुहिम को लंबित कर दिया गया है नई तिथियों की घोषणा बाद में की जाएगी

26 मरीज हुए ठीक, 33 नए पॉजिटिव, एक की मौत
जिले में कोरोनावायरस का प्रकोप जारी है। आज 26 मरीजों को ठीक होने के उपरांत अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई, जबकि पिछले 24 घंटों में 33 नए मरीज सामने आए हैं। स्थानीय अस्पताल में आज कोरोना संक्रमण से एक मरीज की मौत हो गई जो जालंधर का रहने वाला था और उपचार के लिए स्थानीय अस्पताल में भर्ती था। इसके अलावा बाहरी जिलों के 7 मरीज सामने आए हैं। जिले में अब तक पॉजिटिव मरीजों की संख्या 25,102 हो गई है। इनमें से 972 की मौत हो चुकी है जिले के अलावा बाहरी जिलों से उपचार कराने के लिए स्थानीय अस्पतालों में आए मरीजों में 3760 मरीज पॉजिटिव आ चुके हैं। इनमें से 460 की मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार 23,860 मरीज ठीक हो चुके हैं। वर्तमान में 322 एक्टिव मरीज रह गए हैं।

2306 सैंपल जांच के लिए भेजे
जिला एपिडेमियोलॉजिस्ट डॉ. रमेश भगत के अनुसार आज 2306 संदिग्ध मरीजों के सैंपल जांच के लिए भेजे गए हैं। इनमें 1786 सैंपल स्वास्थ्य विभाग द्वारा जबकि 520 सैंपल निजी अस्पतालों तथा लैब्स द्वारा लिए गए हैं।

1514 मरीजों की टैस्ट रिपोर्ट पैंडिंग
जिले में 1514 संदिग्ध मरीजों की टैस्ट रिपोर्ट पैंडिंग है जिसके नतीजे कल तक आ जाने की उम्मीद है। जिले में अब तक 5,59,153 लोगों के सैंपल जांच के लिए भेजे जा चुके हैं। इनमें से 5,57,639 लोगों की टैस्ट रिपोर्ट स्वास्थ्य विभाग को प्राप्त हो चुकी है। इनमें से 5,28,777 की रिपोर्ट नैगेटिव आ चुकी है।

53 मरीजों को होम आइसोलेशन में भेजा
स्वास्थ्य विभाग द्वारा आज 53 पॉजिटिव मरीजों को होम आइसोलेशन में भेजा गया है। वर्तमान में 242 मरीज होम आइसोलेशन में रह रहे हैं। इसके अलावा 86 संदिग्ध मरीजों को होम क्वारंटाइन में भेजा गया है जिससे क्वारंटाइन में रह रहे मरीजों की संख्या 940 हो गई है।

अस्पतालों में मरीज घटे, आइसोलेशन में बढ़े
होम आइसोलेशन में मरीजों को शिफ्ट करने के चलते अस्पतालों में मरीजों की संख्या कम हो गई है। सरकारी अस्पतालों में पॉजिटिव मरीजों की संख्या 6 रह गई है जबकि निजी अस्पतालों में 85 पॉजिटिव मरीज रह गए हैं। इनमें से 2 मरीजों की हालत गंभीर बताई जाती है। दोनों मरीज बाहरी जिलों से संबंधित हैं।


Tania pathak

Recommended News