पंजाब में बढ़ रही बिजली की मांग, पिछले साल के मुकाबले इस बार हुई 12% की बढ़ौतरी

punjabkesari.in Thursday, Nov 24, 2022 - 05:24 PM (IST)

चंडीगढ़: ग्लोबल वार्मिंग से मौसम में आए बदलाव का असर पंजाब में भी दिखने लगा है। इस वर्ष अधिक तापमान और सब्सिडी वाली बिजली की उपलब्धता के कारण, राज्य ने पिछले वर्ष की तुलना में 2022 में अधिक बिजली की खपत की। धान की कटाई का मौसम खत्म होने के बावजूद अक्तूबर में भी राज्य में बिजली की मांग बढ़ रही थी, जबकि कृषि क्षेत्र के लिए बिजली की जरूरत उतनी नहीं थी। विभिन्न सरकारी एजेंसियों द्वारा जारी आंकड़ों के अनुसार राज्य ने इस साल अब तक 48,198 मिलियन यूनिट (एम.यू.) की खपत की है, जबकि 2021 में 43,191 मिलियन यूनिट की खपत हुई थी। 

इस वित्तीय वर्ष के बिजली खपत पैटर्न के एक तुलनात्मक विश्लेषण से पता चलता है कि राज्य ने फसल के मौसम की शुरुआत के बाद पीक डिमांड अवधि की तुलना में गैर-धान सीजन के महीनों में अधिक बिजली की खपत की। आंकड़ों के मुताबिक, अप्रैल और मई 2022 में बिजली की मांग क्रमश: 31 और 35 फीसदी थी, जब किसानों को अभी धान की बुआई करनी थी। दिलचस्प बात यह है कि जब जून, जुलाई और अगस्त 2022 में धान का सीजन शुरू हुआ था, तब पिछले साल की तुलना में राज्य में बिजली की खपत में मामूली वृद्धि हुई थी। पिछले साल की तुलना में इस साल पंजाब में कुल खपत में 12 फीसदी की बढ़ोतरी हुई है।

पी.एस.पी.सी.एल. के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि बदलते मौसम के मिजाज के कारण वैश्विक ऊर्जा संकट ने भी पंजाब को प्रभावित किया है क्योंकि यह बिजली की बढ़ती मांग का सामना कर रहा है। मानसून के दौरान कम और छिटपुट बारिश के कारण पिछले साल की तुलना में राज्य में बिजली की मांग बढ़ी है। धान के मौसम के दौरान उतनी ही संख्या में ट्यूबवेल बिजली की खपत करते थे, जबकि उच्च तापमान के कारण एयर कंडीशनर का पूरी क्षमता से उपयोग किया जाता था, जिससे घरेलू और कार्यालय आपूर्ति की मांग बढ़ जाती थी।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sunita sarangal

Related News

Recommended News