घल्लूघारा दिवसः सरबत खालसा के जत्थेदार मंड ने SAD व SGPC पर लगाए गंभीर आरोप

punjabkesari.in Monday, Jun 06, 2022 - 03:58 PM (IST)

अमृतसर : घल्लूघारा दिवस के मौके पर जहां सिख संगत सचखंड श्री दरबार साहिब में नतमस्तक हो रही हैं वहीं सिख जत्थेबंदियों के नेताओं की तरफ से भी शिरोमणी गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी और शिरोमणि अकाली दल पर तीखे निशाने साधे जा रहे हैं। घल्लूघारा दिवस मौके पर सरबत खालसा में नियुक्त किए गए जत्थेदार ध्यान सिंह मंड की ओर से भी शिरोमणि अकाली दल और एस.जी.पी.सी. पर निशाने साधे गए। 

सरबत खालसा में नियुक्त किए गए मुतवाजी जत्थेदार ध्यान सिंह मंड की तरफ से आज सचखंड श्री दरबार साहिब में पहुंच कर शिरोमणि अकाली दल और एस.जी.पी.सी. पर सवाल उठाते हुए कहा गया कि शिरोमणि अकाली दल सिखों की सबसे बड़ी दुश्मन है क्योंकि जब धन श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की जाती थी उस समय पर इनकी तरफ से नियुक्त किए गए जत्थेदारों की तरफ से उसे दबाने की कोशिश की गई। उनका कहना है कि अब इनको बंदी सिंहों की याद आ रही है तब यह कहां थे जब वह अकेले ही आवाज उठा रहे थे। 

वहीं उन्होंने आगे बोलते हुए कहा कि सिख कौम अपने बंदी सिंहों को छुड़वाने में खुद ही कदम उठाएगी। अकाली दल और एस.जी.पी.सी. को कोई भी कदम उठाने की जरूरत नहीं क्योंकि धन श्री गुरु ग्रंथ साहिब जी का जब निरादर हुआ था तो शिरोमणि अकाली दल की तरफ से कोई धरना प्रदर्शन नहीं किया गया और न ही एस.जी.पी.सी. की तरफ से। भाई ध्यान सिंह मंड ने कहा कि शिरोमण गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी की मतदान केंद्र सरकार जानबूझ कर नहीं करवा रही और उनकी भी मंशा साफ होती हुई नजर आ रही है। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी के नेताओं की तरफ से भी यदि सिखों को इंसाफ न दिलाया गया तो उनके हालात भी इन दोनों रिवायती पार्टियों जैसे होंगे। उधर बलवंत सिंह राजोआना की बहन कमलदीप कौर राजोआना ने शिरोमणि अकाली दल की तरफ से संगरूर में उपचुनाव में खड़ा किया गया है। उस पर बोलते हुए उन्होंने कहा कि कोई जागती जमीर वाले जब राजोआना की बहन को खड़ा करेंगे तब बात करेंगे।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News