‘अरबों के इंडस्ट्री प्लाट अलाटमैंट घोटाले की CBI जांच हो’

9/11/2019 1:23:36 PM

चंडीगढ़(रमनजीत): आम आदमी पार्टी ने पंजाब स्टेट इंडस्ट्रीयल एंड एक्सपोर्ट कार्पोरेशन के प्लाट आबंटन में अरबों रुपए के घोटाले का आरोप लगाते हुए हाईकोर्ट की निगरानी में समयबद्ध सी.बी.आई. जांच की मांग की है। आप विधायक व नेता विपक्ष हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि इस घोटाले की जांच इसलिए हाईकोर्ट व सी.बी.आई. से करवाने की मांग की जा रही है क्योंकि इसमें बड़े अधिकारी शामिल हैं, जिन्होंने अपने नजदीकियों को रेवडिय़ों की तरह प्लाट आबंटित किए। चीमा ने कहा कि यदि सरकार ने इस घोटाले की जांच एक माह के दौरान सी.बी.आई. को नहीं सौंपी तो आम आदमी पार्टी पंजाब एवं हरियाणा हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाएगी और विधानसभा में भी सरकार को घेरेगी। 

नेता विपक्ष के सरकारी आवास पर विपक्ष की उप नेता सरबजीत कौर माणूके, कोर कमेटी सदस्य दलबीर सिंह ढिल्लों, बलजिंद्र सिंह चौंदा व मनजीत सिंह सिद्धू के साथ पत्रकारवार्ता को संबोधित करते हुए हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि इस घोटाले के संबंध में जांच कैप्टन सरकार ने 4 अप्रैल, 2018 को विजीलैंस को सौंपी थी और विजीलैंस ने जनवरी, 2019 को जांच पूरी करके रिपोर्ट सौंप दी थी। चीमा ने कहा कि विजीलैंस ब्यूरो ने अपनी जांच रिपोर्ट में डेढ़ दर्जन अधिकारियों व मुलाजिमों तथा उनके कुछ रिश्तेदारों को दोषी पाया है, जिनमें अधिकारियों की पत्नियों से लेकर जीजा-साले तक के रिश्तेदार भी शामिल हैं। इन्हें विभिन्न कोटे व कैटेगरियों के जरिए रेवडिय़ों की तरह सस्ते दाम पर प्लाट बांटे गए और योग्य उद्यमियों को दरकिनार किया गया। 

पी.एस.आई.ई.सी. की प्लाट अलॉटमैंट संबंधी 20 साल का रिकार्ड हो सील
चीमा ने हाईकोर्ट से मांग की है कि पी.एस.आई.ई.सी. की प्लाट अलाटमैंट संबंधी पिछले 20 सालों का सारा रिकार्ड तुरंत सील किया जाए। उन्होंने कहा कि इन घोटालेबाजों की पहुंच काफी ऊपर तक है, जिसके दम पर विजीलैंस रिपोर्ट में तथ्य सामने आने के बाद भी सरकार ने केस दर्ज करने की बजाय ‘क्लीनचिट’ देने के लिए विभागीय अधिकारियों पर आधारित एक जांच कमेटी का गठन कर दिया है। 


swetha