भारत सरकार अफगान सिखों को शरण देने के लिए प्रतिबद्ध: लालपुरा

punjabkesari.in Thursday, Jun 23, 2022 - 12:27 PM (IST)

जालंधर : अमृतसर और तरनतारन के एस.एस.पी. और अतिरिक्त महानिरीक्षक सी.आई.डी. के रूप में सेवा निभा चुके इकबाल सिंह लालपुरा, जो अब राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग के अध्यक्ष हैं, का आज पंजाब केसरी ने अफगानिस्तान में फंसे सिख परिवारों और पंजाब में बढ़ते गैंगस्टरवाद पर साक्षात्कार किया। लालपुरा ने इन मुद्दों पर खुलकर बात करते हुए कुछ राज्यों में ङ्क्षहदुओं की घटती आबादी और जम्मू-कश्मीर में चल रही टार्गेट किलिंग पर भी चर्चा की। पेश हैं बातचीत के मुख्य अंश...

अफगानिस्तान में रह रहे 100 सिखों के लिए ई-वीजा जारी
अफगानिस्तान में रहने वाले सिखों के बारे में बात करते हुए इकबाल सिंह लालपुरा ने कहा कि गत दिवस पहले काबुल में गुरुद्वारा साहिब पर हुआ हमला निंदनीय है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार अफगानिस्तान में रह रहे सिखों को लेकर चिंतित है। भारत सरकार द्वारा 100 सिखों के लिए ई-वीजा जारी किया जा चुका है। जो सिख परिवार अभी भी वहां रह रहे हैं, अगर वे भारत आना चाहते हैं, तो सरकार उनकी मदद करेगी। 

भारत सरकार सिखों की ऐतिहासिक इमारतों को लेकर सरकार अफगान सरकार से संपर्क कर रही है ताकि कोई इन इमारतों पर कब्जा न कर सके और ये इमारतें सुरक्षित रहें। लालपुरा ने कहा कि अफगानिस्तान में सिर्फ सिख ही नहीं बल्कि किसी भी धर्म के लोग अगर भारत आना चाहते हैं तो सरकार उन्हें न सिर्फ शरण देगी बल्कि सी.ए.ए. के तहत उन्हें भारतीय नागरिकता देने की भी कोशिश करेगी।

धर्मांतरण की शिकायतों को गंभीरता से लिया जा रहा
लालपुरा ने कहा कि पंजाब में धर्मांतरण को लेकर कई शिकायतें मिल रही हैं। कुछ लोग धर्म परिवर्तन के लिए गलत तरीके अपना रहे हैं इसलिए हम सिख समुदाय से प्राप्त शिकायतों पर ध्यान देने की कोशिश कर रहे हैं और ईसाई नेताओं के साथ सिख नेताओं की बैठक की व्यवस्था की गई है, जिसमें यह सुनिश्चित करने पर सहमति बनी है कि कोई जबरन धर्मांतरण न हो।

9 राज्यों में हिंदू अल्पसंख्यक
कुछ राज्यों में अलग-अलग धर्मों से संबंधित लोगों के अल्पसंख्यक होने संबंधी चर्चा करते हुए लालपुरा ने कहा कि अल्पसंख्यकों के अधिकारों को लेकर अदालत में एक मामला लंबित है। 9 राज्यों में इस वक्त हिंदू धर्म अल्पसंख्यक है, फिर भी अदालत के आदेश का इंतजार है। इस मामले में सुप्रीम कोर्ट जो फैसला करेगा, उसके मुताबिक सरकार कार्रवाई करेगी। फिलहाल 6 धर्मों को अल्पमत में रखा गया है।

अल्पसंख्यक आयोग शिक्षा, रोजगार और समानता के लिए काम कर रहा है। हम अल्पसंख्यक समुदाय से संबंधित छात्रों को शिक्षित करने के लिए काम करते हैं। इतना ही नहीं, जो लोग अपना खुद का व्यवसाय चलाना चाहते हैं, उनके लिए विभाग की कई योजनाएं हैं। इतना ही नहीं राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग सामाजिक समानता के लिए लगातार काम कर रहा है।

गैंगस्टरों को काबू करे पंजाब सरकार
पंजाब में बढ़ते गैंगस्टरवाद के बारे में बात करते हुए लालपुरा ने कहा कि कानून व्यवस्था बनाए रखना हर राज्य की जिम्मेदारी होती है। कोई भी अपराध या तो राज्य की अक्षमता से होता है या मिलीभगत से, क्योंकि इन चीजों के बिना अपराध संभव नहीं है। अब यह सरकार पर निर्भर करता है कि वे देखे कि नालायकी कहां हुई। सिद्धू मूसेवाला की सुरक्षा वापस ले ली गई और इसे लोगों में सार्वजनिक कर दिया गया। इस तरह की जानकारी को सार्वजनिक करने वालों को दंडित किया जाना चाहिए। पूरे मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि आज इस बात पर ध्यान देने की जरूरत है कि कैसे पुलिस को और अधिक सक्रिय बनाया जाए। सिद्धू मूसेवाला हत्याकांड के आरोपियों को दिल्ली पुलिस ने आज गिरफ्तार कर लिया है जबकि कार्रवाई पंजाब पुलिस कर सकती थी इसलिए पुलिस को और सक्रिय होने की जरूरत है। पंजाब में कानून-व्यवस्था की स्थिति पिछले कुछ वर्षों से खराब हो रही है लेकिन पंजाब सरकार को इस स्थिति पर नियंत्रण करना चाहिए। पंजाब सरकार को इस बात पर ध्यान देने की जरूरत है कि पंजाब के लोग कैसे सुरक्षित महसूस करते हैं।

हथियारों के बयान पर जत्थेदार साहब की भावनाएं स्पष्ट नहीं
अकाल तख्त साहिब के जत्थेदार भाई हरप्रीत सिंह के हथियारों को लेकर दिए गए बयान का जिक्र करते हुए लालपुरा ने कहा कि सिखों के पास हमेशा पांच ककार होते हैं जिनमें श्री साहिब उन हथियारों में से एक है जिनका इस्तेमाल हम अपनी सुरक्षा के लिए करते हैं। पंजाब में लाखों लाइसैंसी हथियार हैं। हथियारों के बयान पर जत्थेदार साहब की भावनाएं स्पष्ट नहीं हैं। 

अगर उनका बयान ट्रेङ्क्षनग के लिए है, तो भारत की शान अभिनव ङ्क्षबद्रा ने ओलिम्पिक में गोल्ड मैडल जीता है, तो सिखों के लिए भी ऐसी कई ट्रेनिंग सुविधाएं हैं। यदि कोई हथियार रखना चाहता है तो प्रशिक्षण के साथ लाइसैंस के लिए आवेदन कर सकता है। पंजाब में कानून-व्यवस्था की स्थिति ठीक नहीं है। सभी को पंजाब को शांत रखने की कोशिश करनी चाहिए। जहां तक आधुनिक हथियारों का सवाल है, यह स्पष्ट नहीं है कि वे किस तरह के हथियारों की बात कर रहे हैं।

फिल्मों में सिखों के किरदार को गलत तरीके से पेश करने का लिया नोटिस
फिल्मों में सिख किरदारों या किसी धर्म को गलत तरीके से पेश किए जाने के बारे में लालपुरा ने कहा कि हमने इस पर नोटिस लिया है। हमने संबंधित मंत्रालय से इस मामले पर चर्चा की है और ठोस समाधान निकाला है। इसके तहत विभिन्न धर्मों के प्रतिनिधियों को भारतीय सैंसर बोर्ड में सदस्य के रूप में शामिल किया जाएगा ताकि किसी भी धर्म को पर्दे पर गलत तरीके से पेश न किया जा सके।

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Kalash

Related News

Recommended News