आसान नहीं होगा दूसरा मीटर लगवाना, पावरकॉम इस तरह रखेगा पूरी स्थिति पर नजर

punjabkesari.in Wednesday, Apr 27, 2022 - 04:13 PM (IST)

जालंधर (पुनीत): 300 यूनिट मुफ्त बिजली का दोगुना लाभ लेने के लिए लोगों की तरफ से एक घर में दूसरा मीटर लगवाने को महत्व दिया जा रहा है जिस कारण पावरकॉम के सुविधा सेंटरों में दूसरे मीटर को लेकर फाइलें का बाढ़ आ चुका है। हालत यह है कि दफ्तरों में फाइलों को संभालना भी मुश्किल हो रहा है। जालंधर शहर की चारों डिवीजनों में रोजमर्रा की 500 के लगभग फाइलें पहुंच रही हैं जिसके साथ सुविधा सैंटर में बैठे कर्मचारियों को एक पल की भी फुर्सत नहीं मिल रही। लोग फाइलें धड़ाधड़ जमा करवाते जा रहे हैं। लोगों को इस बात की जानकारी नहीं कि दूसरा मीटर लगवाना आसान नहीं होगा। इसके लिए 4 मुश्किल पड़ाव हैं जिन बारे ‘पंजाब केसरी’ की तरफ से मंगलवार के एडीशन में विस्तारपूर्वक जानकारी दी गई है। नए मीटर लगवाने सम्बन्धित जो नई जानकारी मिली है, उस मुताबिक नया मीटर लगवाने मामले को लेकर विभाग बहुत चौकस हो चुका है। इसके अंतर्गत मीटर लगवाने के लिए नियमों को पूरा करना बहुत जरूरी होगा और इसकी कई तरह की जांच होगी।

यह भी पढ़ेंः पंजाब सरकार का एक्शन, पूर्व Deputy CM सुखजिंदर रंधावा को नोटिस जारी

रूटीन मुताबिक मीटर लगवाने सम्बन्धित फाइल को सुविधा सैंटर में जमा करवाया जाता है। जालंधर में पावरकॉम के कई सुविधा सैंटर हैं। इनमें हंसराज स्टेडियम के सामने सब-स्टेशन के साथ वाली बिल्डिंग, पठानकोट चौंक बिजली घर, बड़िंग, मकसूदां आदि सुविधा सैंटर शामिल हैं। यहां से फाइल को आगे सम्बन्धित डिवीजन के एक्सियन के दफ्तर में भेज दिया जाता है। एक्सियन की तरफ से आगे फाइल एस.डी.ओ. को मार्क कर दी जाती है। इसके बाद मुख्य काम शुरू होता है। एस.डी. ओ. अपनी सब-डिवीजन में काम करने वाले अलग-अलग जूनियर इंजीनियरों (जे.इज) में से किसी एक को फाइल सौंप देते हैं। इसके बाद बिजली कनेक्शन अप्लाई करने वाले के घर विजीट की जाती है और रिपोर्ट बनाकर एस.डी.ओ. को सौंपी जाती है। इसके बाद एस.डी.ओ. चाहे तो वह खुद मौके का मुआयना कर सकता है परन्तु और ज्यादा मामलों में जे.ई. की तरफ से साइन की फाइल एस.डी.ओ. की तरफ से ओके कर दी जाती है और आसानी के साथ मीटर लग जाता था।

अब विभाग की तरफ से प्रति मीटर दी जाने वाली 300 यूनिट मुफ्त बिजली का गलत ढंग के साथ प्रयोग न हो सके इसके लिए पावरकॉम का पटियाला हैड आफिस पूरे घटनाक्रम पर नजर रखेगा। पंजाब में लाखों की संख्या में नए मीटर अप्लाई हो जाएंगे इसलिए हरेक घर में जाना पटियाला आफिस की टीमों के लिए संभव नहीं होगा परन्तु पटियाला से आने वाली टीमें हरेक डिवीजन के अलग-अलग इलाकों की फाइलें देखकर उनमें से 10-12 फाइलें उठा कर चैक करेंगी। इस चैकिंग में कोई भी खपतकार आ सकता है जो नियमों के उलट पाया जाएगा तब उसके खिलाफ बनती विभागीय कार्यवाही होगी।

यह भी पढ़ेंः भीषण गर्मी के बीच पंजाब वासियों के लिए चिंताजनक खबर...!

दूसरे मीटर की एस.डी.ओ. और एक्सियन करेंगे जांच
दूसरामीटर लगवाने वाले केस में जे.ई. की तरफ से खुद मौको का मुआयना करके नियम और शर्तों के साथ सम्बन्धित जरूरी चीजें जैसे किचन, बाथरूम और घर के अंदर के रास्ते आदि की फोटो के ली जाएगी। जे.ई. की विस्तारित रिपोर्ट आने के बाद एस.डी.ओ. की तरफ से मौके का मुआयना किया जाएगा और फाइल को वापिस एक्सियन को भेजना होगा। सूत्र बताते हैं कि चौकसी के तौर पर एक्सियन को मौका देखने की हिदायतें दीं गई हैं। तीन आधिकारियों की तरफ से मौका देखने कारण गलती की संभावना बहुत कम रहेगी।

यह भी पढ़ें : भारत-पाक सरहद पर ड्रोन की हलचल, BSF ने फायरिंग कर भगाया

पावरकॉम की सख्ती के साथ भ्रष्ट कर्मचारियों की नहीं गलेगी दाल
पावरकॉम में कई भ्रष्ट कर्मचारी भी मौजूद हैं। कईयों खिलाफ विभागीय कार्यवाही चल रही है जबकि कईयों पर अलग-अलग मामलों को लेकर कार्यवाही हो चुकी है। मीटर रीडिंग करने वाले प्राईवेट कंपनी के 80 मीटर रीडरों को ट्रमीनेट किया जा चुका है। जानकारों का कहना है कि विभागीय कर्मचारियों की मिलीभगत कारण गलत ढंग के साथ मीटर लगाए जाते हैं। यदि जालंधर में सभी मीटरों की जांच करवाई जाए तो सच्चाई सामने आएगी। उनका कहना है कि अब दूसरा मीटर लगवाने को लेकर विभाग की तरफ से जो सख्ती अपनाई जा रही है उस कारण भ्रष्ट कर्मचारियों की दाल नहीं गलेगी। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News