पंजाब में Students को अगली Class में प्रमोट करने को लेकर अब उठा नया विवाद

4/17/2021 5:42:25 PM

मोहाली (नियामियां): पंजाब सरकार ने 10वीं कक्षा तक की बोर्ड की परीक्षाएं रद्द करके परीक्षार्थियों को बिना परीक्षा दिए ही अगली कक्षाओं में प्रमोट करने का फैसला किया है। इस फैसले से ज्यादातर विद्यार्थी खुश हैं परंतु जो होशियार विद्यार्थी मायूस हैं कि उनकी सालभर की मेहनत का सही मूल्य नहीं पड़ा। इसी दौरान बहुत से अभिभावकों ने पंजाब सरकार से मांग की है कि जब बोर्ड ने परीक्षाएं ली ही नहीं तो विद्यार्थियों से वसूली गई परीक्षा फीस ब्याज समेत वापस की जाए।

इस संबंध में बातचीत करते भाई लालो स्कूल और माता-पिता एसोसिएशन के प्रतिनिधी सतनाम सिंह दाऊं ने कहा कि यह दस्तूर की बात है कि यदि शिक्षा बोर्ड ने कोई परीक्षा ली हो तो वह परीक्षा फीस लेने का हकदार है परंतु जब विद्यार्थियों की परीक्षा ही नहीं ली गई तो उनसे पैसे किस बात पर लिए गए हैं। दाऊं ने बताया कि 5वीं, 8वीं और 10वीं कक्षा के विद्यार्थियों से शिक्षा बोर्ड ने 80 करोड़ रुपए हासिल किए हैं जो कि बच्चों के साथ बड़ा धोखा है। उन्होंने कहा कि परीक्षा फीस हासिल करने के बाद विद्यार्थियों का मूल्यांकन नहीं किया गया और उनको बिना परीक्षा के पास किया गया है। उन्होंने सरकार से मांग की है कि विद्यार्थियों से वसूली गई 80 करोड़ के करीब परीक्षा फीस तुरंत वापस की जाए अन्यथा वह कोर्ट जाने को मजबूर होंगे।


Content Writer

Vatika

सबसे ज्यादा पढ़े गए

Recommended News

static