खुशी-खुशी बेटी को डोली में किया था विदा, नहीं पता था 8 माह बाद ऐसा होगा...

7/18/2020 1:21:13 PM

रायकोट (राज): रायकोट के गांव जलालदिवाल में पिता ने बेटी की शादी करके ख़ुशी-ख़ुशी उसे ससुराल घर भेजा था लेकिन उन्हें क्या पता था कि 8 महीने पहले शादी के बंधन में बंधी बेटी सारी उम्र का रोना दे जाएगी। ससुराल घर बेटी की भेदभरे हालात में मौत हो गई, जिसके बाद मां-बाप ने ससुरालियों पर बेटी को मारने के आरोप लगाए हैं।

PunjabKesari

जानकारी के अनुसार गांव गुड़े के निवासी गुरमुख सिंह ने पुलिस को दिए बयानों में बताया कि 10 अक्तूबर 2019 को उसने अपनी बेटी बलजीत कौर का विवाह नवदीप सिंह पुत्र बलविन्दर सिंह निवासी जलालदिवाल के साथ किया था। विवाह दौरान उसने अपनी हैसियत से अधिक दहेज भी दिया था लेकिन शादी के कुछ समय बाद ही बेटी के ससुराल परिवार ने उसे दहेज के लिए तंग -परेशान करना शुरू कर दिया। शनिवार सुबह करीब 5.30 बजे उसके दामाद की मौसी अमरजीत कौर पत्नी हरदयाल सिंह निवासी रूपापत्ती ने फ़ोन करके बताया कि उसकी बेटी बेहोश हो गई है लेकिन जब गुरमुख सिंह अपने गांव के लोगों और रिश्तेदारों के साथ बेटी के ससुराल घर पहुंचा तो उसकी मौत हो चुकी थी।

PunjabKesari

मृतका के पिता ने बेटी की सास चरनजीत कौर, पति नवदीप सिंह और मौसी सास अमरजीत कौर पर बेटी की हत्या करने का शक ज़ाहिर करते कहा कि ससुराल परिवार ने उसकी बेटी को दहेज के लिए मारा है। इस संबंध में मृतका के पिता गुरमुख सिंह के बयानों के आधार पर कार्रवाई करते केस दर्ज कर शव परिजनों के हवाले कर दिया है। जब इस संबंधित गांव जलालदिवाल के सरपंच जगजीत सिंह के साथ बातचीत की गई तो उन्होंने कहा कि मृतका के पति नवदीप सिंह ने रात करीब 1 बजे उसे फ़ोन करके घर बुलाया और बताया कि बलजीत कौर बेहोश है, जिस पर उन्होंने गांव के डाक्टर को बुलाया लेकिन डाक्टर ने बलजीत को मृत घोषित कर दिया।

PunjabKesari

सरपंच ने बताया कि मृतका का ससुर परिवार उसका पड़ोसी है और उनके बेटे के विवाह को कुछ महीने हुए हैं लेकिन उनके घर में कोई भी लड़ाई -झगड़ा सामने नहीं आया और न ही कभी पंचायत के पास ऐसी कोई बातचीत सामने आई है।


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Vatika

Recommended News

static