सरकारी मेडिकल कालेज में खुलेगी उत्तरी भारत की सबसे बड़ी लैब

punjabkesari.in Wednesday, Mar 23, 2022 - 11:15 AM (IST)

अमृतसर (दलजीत): उत्तर भारत में सबसे बड़ी क्षेत्रीय रेबीज डायग्नोस्टिक लैब सरकारी मेडिकल कॉलेज, अमृतसर में स्थापित की जा रही है। प्रयोगशाला एंटीबॉडी के इलाज और विकसित करने के लिए विशेष तकनीकों का उपयोग करते हुए रेबीज वायरस पर शोध करेगी। अमृतसर में लैब खुलने से पंजाब के आसपास के सभी राज्यों को भारी लाभ मिलेगा। जानकारी अनुसार भारत सरकार की तरफ से दिल्ली स्थित नेशनल सैंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एन.सी.डी.सी. में हुई मीटिंग जिसमें गुरु नानक देव अस्पताल के मेडिकल सुपरिटेंडेंट डा. के.डी. सिंह ने हिस्सा लिया।

यह भी पढ़ें : सुखजिंदर रंधावा ने राज्य के नए जेल मंत्री को दिए यह सुझाव

दरअसल लैब में रैबीज वायरस पर शोध, इलाज और एंटीबॉडीज विकसित की जाएगी। माइक्रोबायोलॉजी विभाग के प्रोफेसर डा. के.डी. सिंह ने एन.सी.डी.सी. दिल्ली में आधिकारियों की बैठक में शामिल हुए। बैठक में एन.सी.डी.सी. ने डायगनोस्टिक लैब सम्बन्धित कुछ जरूरी बुनियादी ढांचा तैयार करने के लिए 30 जून तक का समय दिया। इसके बाद आगे वाली मीटिंग में नए दिशा-निर्देश जारी किए जाएंगे। जिक्रयोग है कि डा. के.डी. एक कुशल प्रशासक हैं और उनके नेतृत्व में पंजाब की बेहतर ढंग के साथ कोरोना लेबोरेटरी चल रही है। कोरोना में उनकी तरफ से विशेष तकनीकों के साथ काम किया गया था जिसकी पंजाब सरकार की तरफ से भी प्रशंसा की गई थी और डा. के.डी. के नेतृत्व में यह बढ़िया प्रदर्शन करेगी।

यह भी पढ़ें : भारत-पाक सरहद पर फिर घुसा ड्रोन,  BSF ने फायरिंग कर भगाया

हरियाणा, हिमाचल, जम्मू-कश्मीर के लोगों को लाभ मिलेगा
डा. के. डी. ने बताया कि राजस्थान में रीजनल रैबीज डयगनोस्टिक लैब के बाद यह उत्तर भारत की दूसरी लैब होगी। इसके साथ हरियाणा, हिमाचल, जम्मू-कश्मीर के लोगों को लाभ मिलेगा। उन्होंने बताया कि अति-आधुनिक तकनीकों के साथ यह लेबोरेटरी विशेष ढंग के साथ अपना काम करेगी। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News