विभाग के सर्वर की खराबी के चलते नहीं दे पाएंगे कई आवेदक पंजाब टैट 2019

1/1/2020 4:05:23 PM

दीनानगर(कपूर)- बी.एड व ई.टी.टी अध्यापकों की भर्ती करने हेतु पंजाब सरकार द्वारा लिए जाने वाला अध्यापक योगयता टैस्ट हर वर्ष किसी न किसी तरह से विवादों के घेरे में बना रहना आम बात है। जिसका खमियाजा अकसर आवेदकों को ही भुगतना पड़ता है। 

यद्यपि साल भर में एक बार लिए जाने वाला यह टैस्ट जिसका पूरा वर्ष अध्यापक बनने के चाहवान इसकी प्रतीक्षा करते रहते हैं तथा हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी पी.एस.टैट टैस्ट की विभाग द्वारा शुरू की गई ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन दौरान सरवर की खराबी के कारण ज्यादातर बच्चे इस टैस्ट को भरने से वंचित रह गए थे, जिसके उपरान्त आवेदकों की मांग पर विभाग ने एक सप्ताह का अधिक समय देकर फार्म कम्पलीट करने का समय दिया, मगर इन दिनों में फार्म तो आवेदकों द्वारा भर लिए गए मगर दो से तीन दिन बाद फीस कन्फर्मेशन मैसेज आने की दुविधा के कारण अधिकांश बच्चों की फीस को तो कन्फर्म हो गई, मगर कई ऐसे आवेदक भी थे, जिनकी ऑनलाइन फीस तो उनके अकाऊंट से कट गई थी, मगर एडमिट कार्ड अपलोड होने पर उनकी फीस जमा न होने का हवाला देकर उनके एडमिट कार्ड जारी नहीं किए गए हैं, जिसके कारण इन टैट आवेदकों में भारी रोष पाया जा रहा है। आवेदक सोनिया शर्मा, शिवानी, राजेश कुमार व अन्यों ने बताया कि उन्होंने अपने फार्म के सभी स्टेप कम्पलीट किए थे, मगर उनको विभाग द्वारा एडमिट कार्ड जारी नहीं किए गए हैं, विभाग उनके एडमिट कार्ड को शीघ्र जारी करे।

बच्चों के करियर के मद्देनजर विभाग तुरन्त रिलीज करे एडमिट कार्ड
पंजाब सरकार द्वारा अध्यापकों की भर्ती करने हेतु साल में मात्र एक बार ही टैट का टैस्ट निकाला जाता है, मगर विभाग की सरवर की खराबी के कारण जिन बच्चों को फीस या अन्य कारणों से एडमिट कार्ड डाऊनलोड करने में दिक्कत पेश आ रही है, उन बच्चों के करियर के मद्देनजर उनको समय देकर उनके एडमिट कार्ड तुरन्त जारी किए जाए।
          
विभाग पुन रि-शेड्यूल करे एडमिट कार्ड
पंजाब सरकार द्वारा लिए जाने वाले टैट टैस्ट में सभी बच्चों को एडमिट कार्ड डाउनलोड होने पर पता चला था कि उनको अपने जिले गुरदासपुर व पठानकोट की बजाए 150 से 200 किलोमीटर दूर अन्य शहरों में सैंटर बना दिए गए हैं, बच्चों द्वारा पंजाब सरकार से मांग के बाद विभाग द्वारा 22 दिसम्बर को लिए जाने वाले टैस्ट को 5 जनवरी को शिफ्ट कर दिया, मगर अब विभाग द्वारा गुरदासपुर जिले वालों को पठानकोट व पठानकोट वालों को गुरदासपुर सैंटर बना दिया गया, जिससे उन विद्यार्थियों को तो राहत तो जरूर मिली है, मगर अभी भी कई ऐसे बच्चे हैं, जिनके सैंटर अमृतसर व अन्य 100 किलोमीटर तक बना दिए गए हैं, जिसके कारण उनमें भारी रोष पाया जा रहा है। इस लिए विभाग इस टैस्ट को पुन: रि-शेड्यूल करके एडमिट कार्ड जारी करे। 


Vaneet

Related News