श्री करतारपुर साहिब दर्शनः भारत-पाकिस्तान-बांग्लादेश एकीकरण आंदोलन ने की यह मांग

punjabkesari.in Sunday, Apr 03, 2022 - 03:05 PM (IST)

बटाला/डेरा बाबा नानक (बेरी, मांगट): श्री गुरु नानक देव जी की चरण छू प्राप्त पाकिस्तान स्थित ऐतिहासिक गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब जी के दर्शनों के लिए भारत और पाकिस्तान सरकार की तरफ से 20 डालर की फीस व पासपोर्ट की शर्त रखी गई है। इस शर्त को खत्म करवाने के लिए ऐतिहासिक कस्बा डेरा बाबा नानक के महाराजा रणजीत सिंह चौक में भारत-पाकिस्तान-बांग्लादेश एकीकरण आंदोलन के संयोजक मदन लाल नरूला की तरफ से अनिश्चित समय के लिए धरना शुरू कर दिया गया है। 

यह भी पढ़ेंः बड़ी खबरः दर्ज हुए झूठे केसों को लेकर मान सरकार का अहम फैसला

जानकारी देते हुए मा. नरूला ने बताया कि पाक स्थित ऐतिहासिक गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब जी का रास्ता जो समूचे नानक नाम लेवा संगत की भावनाओं को समझते हुए भारत और पाकिस्तान सरकार की तरफ से 9 नवंबर 2019 को डेरा बाबा नानक की अंतर्राष्ट्रीय सरहद के द्वारा बिना वीजा खोल दिया गया था। इस रास्ते द्वारा अब तक हजारों संगत गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब के दर्शन कर चुकी हैं परन्तु भारत और पाक की सरकारों की तरफ से गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब पाक के दर्शनों के लिए जाने वाले श्रद्धालुओं पर 20 डालर की प्रविष्टि फीस और प्रूफ के तौर पर पासपोर्ट लाजिमी होने की शर्त लगाई गई है। 

यह भी पढ़ेंः कांग्रेस में उथल-पुथल जारी, दो ब्लाक प्रधानों ने दिया इस्तीफा

इस कारण लाखों नानक नाम लेवा संगत जिनके पास पासपोर्ट नहीं हैं और जो 20 डालर की फीस अदा नहीं कर सकती इस ऐतिहासिक स्थान के दर्शनों से वंचित रह रही हैं। उन्होंने कहा कि पासपोर्ट और 20 डालर की इस शर्त को खत्म करवाने के लिए आज उनकी तरफ से डेरा बाबा नानक में अपने सहयोगी संगठनों के साथ मिलकर अनिश्चित समय के लिए धरना शुरू कर दिया गया है। उन्होंने भारत और पाक सरकार से अपील की कि श्री करतारपुर साहिब जाने वाले श्रद्धालुओं के पास से ली जाती 20 डालर की फीस और पासपोर्ट की शर्त को तुरंत खत्म किया जाए जिससे समूचे नानक नाम लेवा संगत अपने इस बिछड़े गुरुधाम गुरुद्वारा श्री करतारपुर साहिब जी के दर्शन-दीदार कर सकें। 

यह भी पढ़ेंः पंजाब में चिप वाले बिजली मीटरों को लेकर भारी हंगामा, किसानों ने ऐसे किया विरोध

उन्होंने कहा कि जब तक भारत और पाकिस्तान सरकार उनकी मांग को पूरा नहीं करती तब तक यह धरना लगातार जारी रहेगा। इस मौके अलग-अलग बुद्धिजीवियों और समाज सेवीं नेताओं की तरफ से धरने पर बैठे मदन राज नरूला का सिरोपा और हार पहन कर स्वागत किया गया और इस धरने के लिए हर किस्म का सहयोग देने का भरोसा दिया गया। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here

 


सबसे ज्यादा पढ़े गए

News Editor

Urmila

Related News

Recommended News