अब इस बात को लेकर सिद्धू की नाराजगी पहुंच सकती है शिखर तक

punjabkesari.in Saturday, Oct 30, 2021 - 10:34 AM (IST)

चंडीगढ़ (अश्विनी): यूं तो चरणजीत सिंह चन्नी ने मुख्यमंत्री की कुर्सी जब से संभाली है, तब से ही नवजोत सिंह सिद्धू उखड़े हुए हैं परन्तु अब चन्नी को चुनावी रोडमैप तैयार करने की जिम्मेदारी देने के बाद नवजोत सिंह सिद्धू की नाराजगी शिखर पर पहुंचने की शंका बढ़ गई है। सिद्धू मुख्यमंत्री चन्नी को लेकर लगातार हमलावर हैं। उन्होंने पूर्व मुख्यमंत्री कै. अमरिंदर सिंह पर सोशल मीडिया के द्वारा किए गए हमलों की तरह चन्नी सरकार पर भी सोशल मीडिया के द्वारा टिप्पणियां करने की रिवायत बरकरार रखी है। मुख्यमंत्री चन्नी ने इस पर नाराजगी भी जताई परन्तु जब तक पंजाब प्रदेश इंचार्ज की कमान हरीश रावत के हाथ में थी, रावत सिद्धू की बातें को टालते रहे। वहीं अब पंजाब कांग्रेस इंचार्ज बदलने के बाद मुख्यमंत्री अब सीधे राहुल गांधी के संपर्क में हैं और वह पूरा रिपोर्ट कार्ड राहुल गांधी को दे रहे हैं।

यह भी पढ़ेंः पंजाब विधानसभा चुनावों में टिकट अलॉटमेंट को लेकर कांग्रेस लीडरशिप ने किया यह फैसला

बताया जा रहा है कि राहुल गांधी भी सिद्धू के मिजाज से खुश नहीं हैं। उन्होंने सिद्धू के साथ हुई बैठक में सिद्धू की तमाम शंकाओं को सुलझाने का भरोसा दिया था परन्तु सिद्धू ने इस भरोसे की परवाह नहीं की। उस पर एक तरफ 2022 की विधानसभा चुनावों में समय कम होता जा रहा है तो दूसरी तरफ नवजोत सिद्धू ने अब तक चुनावों को लेकर कोई भी योजना हाईकमान या मुख्यमंत्री चन्नी के साथ डिस्कस नहीं की है। अलबता, वह सोशल मीडिया पर अलग-अलग मुद्दों को उठा कर पार्टी और सरकार की छवि को नुक्सान पहुंचा रहे हैं इसलिए हाईकमान ने अब सीधे मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी का नेतृत्व वाली राज्य सरकार को विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारी में जुट जाने के लिए आदेश दिए हैं। बताया जा रहा है कि चुनावी रणनीति के अंतर्गत हर एक कैबिनेट मंत्री को जल्दी ही एक-एक करके माझा, मालवा और दोआबा में प्रचार करने को कहा जा सकता है। इस कड़ी में पंजाब कांग्रेस मैनीफैस्टो के जो वायदे पूरे हुए हैं, उनको कांग्रेस की उपलब्धि के तौर पर किताब की शक्ल में प्रचारित करने पर विचार हो सकता है।

यह भी पढ़ेंः बीएसएफ के न्यायाधिकार क्षेत्र बढ़ाने के केंद्र के फैसले के खिलाफ शिअद का रोड शो

मुख्यमंत्री चन्नी के साथ पंजाब कांग्रेस प्रभारी हरीश चौधरी और सिद्धू के करीबी मुहम्मद मुस्तफा शुक्रवार को सुबह हैलीकॉप्टर के द्वारा दिल्ली रवाना हुए थे। इस पर टिप्पणी करते शिरोमणी अकाली दल ने पूछा कि आखिर कांग्रेसी कब से हैलीकॉपटर के हकदार हो गए। शिरोमणी अकाली दल प्रवक्ता दलजीत सिंह चीमा ने कहा कि कांग्रेस के अंदरूनी कलह और पार्टी की गतिविधियों के लिए सरकारी हैलीकॉप्टर का इस्तेमाल गैर-वाजिब है। कांग्रेस के अंदरूनी कलह का खमियाजा हैलीकॉप्टर की शक्ल में राज्यों के खजाने को अदा करना पड़ रहा है। 

अपने शहर की खबरें Whatsapp पर पढ़ने के लिए Click Here

पंजाब की खबरें Instagram पर पढ़ने के लिए हमें Join करें Click Here

अपने शहर की और खबरें जानने के लिए Like करें हमारा Facebook Page Click Here


सबसे ज्यादा पढ़े गए

Content Writer

Sunita sarangal

Related News

Recommended News