तरनतारन: भारत-पाक सरहद पर फिर नजर आया ड्रोन, सहमे गांव निवासी

1/14/2020 6:36:13 PM

तरनतारन(रमन): भारत-पाकिस्तान सरहद किनारे मौजूद जिला तरनतारन के गांव गज्जल में बीती रात अचानक एक ड्रोन दिखाई देने के साथ गांव निवासियों में सहम का माहौल देखने को मिला। जिसके बाद यह ड्रोन करीब 5 मिन्ट तक गांव के आसपास चक्कर लगाता रहा। जब तक बी.एस.एफ को इस सबंधी पता चला तो उनकी ओर से इस ड्रोन को गिराने के मक्सद से गोलीबारी शुरु कर दी गई। जिसके बाद यह ड्रोन आंखों से दूर चला गया।

जानकाारी अनुसार जिले के गांव गज्जल जोकि सरहद के बिल्कुल नजदीक स्थित है के निवासी लोहड़ी का त्यौहार होने के कारण अपने घरों में अग्नि जलाकर खुशियां मना रहे थे कि तभी अचानक करीब 8.30 बजे आसमान में एक ड्रोन घूमता हुआ नजर आया। इस ड्रोन के चारो तरफ लाइटें जल रही थी। यह ड्रोन जब गांव निवासियों ने देखा तो उन्होंने शोर मचाना शुरु कर दिया। करीब 5 मिन्ट तक यह ड्रोन गांव गज्जल की सरहद के आसपास काफी ऊंचाई तक घूमता रहा। 

इस ड्रोन को देखते हुए सरहद पर तैनात बी.एस.एफ की 116 बटालीयन तुरंत हरकत में आई और अपनी स्थिति को संभालते हुए अलर्ट हो गई। इसके बाद तुरंत बी.एस.एफ द्वारा ड्रोन को जमीन पर गिराने के लिए फायरिंग शुरु कर दी गई। इस सबंधित गांव गज्जल के निवासी डा. सुखराज सिंह, राजबीर कौर, महांवीर सिंह, सर्वन सिंह नंबरदार, रजिंदर सिंह, राज सिंह माहला, गुरप्रीत सिंह और गुरशरन सिंह ने बताया कि रात ड्रोन नजर आने के बाद करीब एक घंटा फायरिंग होती रही। जिससे गांव निवासी काफी ज्यादा सहम गए थे। 

उन्होंने बताया कि उन्हें ऐसा लग रहा था कि जैसे लड़ाई लगने की तैयारी हो रही है। इस मामले को लेकर बी.एस.एफ के एक अधिकारी ने बताया कि यह ड्रोन नहीं था, बलकि कोई शकी हवा में उडऩे वाली वस्तू हो सकती है। उन्होंने आगे बताया कि ऐसे ही हरकत अमृतसर, अबोहर और फिरोजपुर में भी होती दिखाई दी जोकि ड्रोन नहीं है। उनका कहना था कि गांव गज्जल के सभी इलाके में सुबह सर्च अभियान चलाया गया था, लेकिन कुछ हाथ नहीं लगा।


Vaneet

Related News